लखनऊ से हिंदी एवं उर्दू में एकसाथ प्रकाशित राष्ट्रीय दैनिक समाचार पत्र
ताजा समाचार
सुल्तानपुर में फ्लाईओवर का पिलर टेढा होने पर जांच के आदेश
मोदी की टिप्पणी ‘हताशा का चरम’: तृणमूल
बहराइच में पानी के लिये भटका बारहसिंघा, कुत्तों ने नोचा
मलेशिया में नजीब रजाक के घर के आसपास घेराबंदी
बस खाई में गिरी, आठ की मौत
मोदी ने कर्नाटक के लोगों से किया बड़ी संख्या में मतदान करने का आग्रह
अमेरिका ने ईरान पर लगाए नए प्रतिबंध
कांग्रेस कर्नाटक में वापसी को लेकर आशवस्त
इजरायली सैनिकों की गोलीबारी में 350 फिलीस्तीनी घायल
पृथ्वी शॉ की तकनीक सचिन जैसी: मार्क वॉ
अमेरिका की पूर्व पहली महिला बारबरा बुश का निधन
वंशवाद और जातिवाद ने किया यूपी का बंटाढार
मुठभेड़ में लश्कर का शीर्ष कमांडर वसीम शाह ढेर
बलात्कार के मामले में तरुण तेजपाल के खिलाफ आरोप तय
शकुंतला विवि में दिव्यांग छात्रों के लिए बढ़ाई गईं सुविधाएं

देश

डेली न्यूज़ एक्टिविस्ट

मीडिया हाउस, 16/3 'घ',
सरोजिनी नायडू मार्ग, लखनऊ - 226001
फ़ोन : 91-522-2239969 / 2238436 / 40, फैक्स : 91-522-2239967/2239968
ईमेल : dailynewsactivist@yahoo.co.in, dailynewslko@gmail.com
वेबसाइट : http://www.dnahindi.com
ई-पेपर : http://www.dailynewsactivist.com

भ्रष्टाचार के विरूद्ध कार्रवाई राजनीतिक बदलेे की कार्रवाई नहीं: जेटली

भ्रष्टाचार के विरूद्ध कार्रवाई राजनीतिक बदलेे की कार्रवाई नहीं: जेटली

नयी दिल्ली 10 अप्रैल (वार्ता)  10 Apr 2019      Email  

नयी दिल्ली 10 अप्रैल  वित्त मंत्री एवं वरिष्ठ भाजपा नेता अरुण जेटली ने बुधवार को कहा कि भ्रष्टाचार के विरूद्ध की गयी कार्रवाई राजनीतिक बदले की कार्रवाई नहीं हो सकती है लेकिन आजकल इस तरह की कार्रवाई को राजनीतिक प्रतिशोध बताना आम हो गया है। 

श्री जेटली ने अपने फेसबुक ब्लाग में लिखा कि प्रतिशोध का दावा कर भ्रष्टाचार के विरूद्ध कार्रवाई से नहीं बचा जा सकता है। जिन लाेगोें ने बड़े पैमाने पर भ्रष्टाचार किये गये हैं उनके प्रति निर्णय मैरिट के आधार पर होनी चाहिए। श्री जेटली ने कहा कि सभी राज्यों में केन्द्र और राज्य सरकारें लोक निर्माण, सड़क, आवास, स्कूल, पंचायत सुविधायें और जन सुविधाओं से जुड़े इंफ्रास्ट्रक्चर का निर्माण लोक निर्माण विभाग करता है। ये काम विभाग ठेकेदारों से करता है। इसी तरह से मध्यान्ह भोजन के लिए बड़े पैमाने पर धनराशि का अनुमोदन किया जाता है जिससे गरीब बच्चों को स्कूल आने के लिए प्रोत्साहित किया जाता है। इसी तरह से गर्भवती महिलाओं को समग्र डाइट उपलब्ध कराने के लिए अन्य योजनायें हैं। लेकिन कर्नाटक में लोक ल्याण के लिए आवंटित राशि को लोक निर्माण विभाग के इंजीनियरों ने राजनीतिक उद्देश्य में इस्तेमाल किया और इसका साक्ष्य सार्वजिनक है। मध्य प्रदेश में एक संस्थागत तंत्र बनाया गया ताकि विकास और कमजोर लोगों के कल्याण से जुड़े कोष काे राजनीतिक उपयोग के लिए भेजा रहा था। 

वित्त मंत्री ने कहा कि इन दाेनों राज्य सरकारों ने इन आरोपों के मैरिट पर जबाव नहीं दिये हैं। इस संबंध में तर्क दिया जा रहा है कि उन पर ही ऊंगली क्यों उठायी जा रही है और उनके राजनीतिक प्रतिद्वंदियों की तलाशी क्यों नहीं ली गयी। क्या यह समानता का अधिकार है कि जब तक विरोधियों पर कार्रवाई नहीं की जाती है तब तक उन पर कार्रवाई नहीं की जा सकती है। राजस्व विभाग ने उपलब्ध साक्ष्य के आधार पर आपत्ति जताते हुये कार्रवाई की है। जब वे संतुष्ट हो जाते हैं तभी तलाशी की जाती है। 

उन्होंने कहा “ हकीकत यह है कि समाज के सबसे कमजोर वर्ग विशेषकर गरीब बच्चों या आर्थिक रूप से कमजोर समूह की गर्भवती महिलाओं के लिए आवंटित राशि की लूट की गयी जिससे इसमें शामिल लोगों की मानसिकता का पता चलता है। उन लोगों ने ऐसे लोगों को भी नहीं छोड़ा जो परित्यक्त जीवनयापन कर रहे हैं। यह भारतीय राजनीति का पाखंड है। इस तरह से अन्याय करने के बाद वे घृष्ठता से ‘न्याय’ की बात करते हैं।


Comments

' data-width="100%">

अन्य खबरें