लखनऊ से हिंदी एवं उर्दू में एकसाथ प्रकाशित राष्ट्रीय दैनिक समाचार पत्र
ताजा समाचार
माेदी सरकार से जनता की अपेक्षायें बढ़ी: रामदेव
सुल्तानपुर में फ्लाईओवर का पिलर टेढा होने पर जांच के आदेश
मोदी की टिप्पणी ‘हताशा का चरम’: तृणमूल
बहराइच में पानी के लिये भटका बारहसिंघा, कुत्तों ने नोचा
मलेशिया में नजीब रजाक के घर के आसपास घेराबंदी
बस खाई में गिरी, आठ की मौत
मोदी ने कर्नाटक के लोगों से किया बड़ी संख्या में मतदान करने का आग्रह
अमेरिका ने ईरान पर लगाए नए प्रतिबंध
कांग्रेस कर्नाटक में वापसी को लेकर आशवस्त
इजरायली सैनिकों की गोलीबारी में 350 फिलीस्तीनी घायल
पृथ्वी शॉ की तकनीक सचिन जैसी: मार्क वॉ
अमेरिका की पूर्व पहली महिला बारबरा बुश का निधन
वंशवाद और जातिवाद ने किया यूपी का बंटाढार
मुठभेड़ में लश्कर का शीर्ष कमांडर वसीम शाह ढेर
बलात्कार के मामले में तरुण तेजपाल के खिलाफ आरोप तय

स्थानीय

डेली न्यूज़ एक्टिविस्ट

मीडिया हाउस, 16/3 'घ',
सरोजिनी नायडू मार्ग, लखनऊ - 226001
फ़ोन : 91-522-2239969 / 2238436 / 40, फैक्स : 91-522-2239967/2239968
ईमेल : dailynewsactivist@yahoo.co.in, dailynewslko@gmail.com
वेबसाइट : http://www.dnahindi.com
ई-पेपर : http://www.dailynewsactivist.com

दस स्वर्ण पदक विजेता महिला पहलवान मजदूरी करने को मजबूर

दस स्वर्ण पदक विजेता महिला पहलवान मजदूरी करने को मजबूर

जालंधर 27 जून (वार्ता)  27 Jun 2019      Email  

जालंधर 27 जून  राष्ट्रीय तथा राज्य स्तर पर दस से अधिक स्वर्ण पदक जीतने वाली पंजाब के मोगा की दो महिला पहलवान गरीबी के चलते अपना तथा अपने परिवार का पेट पालने के लिए धान के खेतों में मजदूरी करने के लिए मजबूर हैं।

केन्द्र तथा राज्य सरकारें नौजवानों को खेलों के लिए प्रेरित करने के लिए कईं प्रकार की योजनाओं का ऐलान करती हैं लेकिन इन्हें देखकर पता चलता है कि वास्तविकता इसके विपरीत है। । 

जिला मोगा के कस्बा निहाल सिहंवाला और रणसिंह कलां से सम्बन्धित यह दोनों महिला खिलाड़ी सरकार के रवैया से बेहद निराश हैं। ये लड़कियाँ वह रेसलर हैं जिन्होंने राज्य और राष्ट्रीय स्तर पर दस स्वर्ण पदक जीते हैं और आज सरकार की अनदेखी के कारण मजदूरी करके अपनी खेल कला को आगे बढ़ाने के लिए यत्नशील हैं। ऐसे में सहज ही अंदाज़ा लगाया जा सकता है कि देश के राज्यों की सरकारें भारत का नाम दुनिया भर में रौशन करने वालों की कितनी कद्र करती हैं। उल्लेखनीय है कि 28 जून को निहाल सिंहवाला में ज़िला कुश्ती संस्था मोगा की ओर से जूनियर पंजाब कुश्ती चैंपियनशिप का आयोजना करवाया जा रहा है।

पंजाब स्तर पर कुश्ती में 10 बार स्वर्ण पदक और राष्ट्रीय स्तर पर पाँच बार कांस्य पदक जीत चुकी अरशप्रीत कौर अपने परिवार के साथ खेतों में मजदूरी करने के लिए मजबूर है। उसने बताया “ मै हर रोज़ प्रेक्टिस करती है परन्तु ख़ुराक के लिए पैसे नहीं हैं। दो समय की रोटी के लिए माँ -बाप खेतों में मज़दूरी करते हैं। वह मुझे वाजिब ख़ुराक नहीं दे सकते। इस लिए मैं भी हर रोज़ खेतों में काम करती हूँ और दिहाड़ी के पैसों के साथ ख़ुराक खाती हूं।”


Comments

' data-width="100%">

अन्य खबरें

मानसून सत्र के पहले दिन विपक्ष के हंगामे के बीच परिषद की कार्यवाही स्थगित
मानसून सत्र के पहले दिन विपक्ष के हंगामे के बीच परिषद की कार्यवाही स्थगित

लखनऊ,18 जुलाई  उत्तर प्रदेश में कानून व्यवस्था के मुद्दे को लेकर विपक्षी सदस्याें के हंगामे के बीच विधान परिषद के म

रुपया 15 पैसे फिसला
रुपया 15 पैसे फिसला

मुंबई 18 जुलाई  वैश्विक स्तर पर दुनिया की प्रमुख मुद्राओं में आयी तेजी और घरेलू स्तर पर शेयर बाजार में गिरावट से बन

गरीब बच्चों का प्रवेश देने से बचने निजी स्कूल दिखा रहे कम संख्या- जोगी
गरीब बच्चों का प्रवेश देने से बचने निजी स्कूल दिखा रहे कम संख्या- जोगी

रायपुर 18 जुलाईजनता कांग्रेस सदस्य पूर्व मुख्यमंत्री अजीत जोगी ने आज विधानसभा में शिक्षा के अधिकार(आरटीई) के तहत गरीब बच