लखनऊ से हिंदी एवं उर्दू में एकसाथ प्रकाशित राष्ट्रीय दैनिक समाचार पत्र
ताजा समाचार
माेदी सरकार से जनता की अपेक्षायें बढ़ी: रामदेव
सुल्तानपुर में फ्लाईओवर का पिलर टेढा होने पर जांच के आदेश
मोदी की टिप्पणी ‘हताशा का चरम’: तृणमूल
बहराइच में पानी के लिये भटका बारहसिंघा, कुत्तों ने नोचा
मलेशिया में नजीब रजाक के घर के आसपास घेराबंदी
बस खाई में गिरी, आठ की मौत
मोदी ने कर्नाटक के लोगों से किया बड़ी संख्या में मतदान करने का आग्रह
अमेरिका ने ईरान पर लगाए नए प्रतिबंध
कांग्रेस कर्नाटक में वापसी को लेकर आशवस्त
इजरायली सैनिकों की गोलीबारी में 350 फिलीस्तीनी घायल
पृथ्वी शॉ की तकनीक सचिन जैसी: मार्क वॉ
अमेरिका की पूर्व पहली महिला बारबरा बुश का निधन
वंशवाद और जातिवाद ने किया यूपी का बंटाढार
मुठभेड़ में लश्कर का शीर्ष कमांडर वसीम शाह ढेर
बलात्कार के मामले में तरुण तेजपाल के खिलाफ आरोप तय

विदेश

डेली न्यूज़ एक्टिविस्ट

मीडिया हाउस, 16/3 'घ',
सरोजिनी नायडू मार्ग, लखनऊ - 226001
फ़ोन : 91-522-2239969 / 2238436 / 40, फैक्स : 91-522-2239967/2239968
ईमेल : dailynewsactivist@yahoo.co.in, dailynewslko@gmail.com
वेबसाइट : http://www.dnahindi.com
ई-पेपर : http://www.dailynewsactivist.com

अमेरिका जाने वालों को देनी होगी अपनी सोशल मीडिया साइटों की जानकारी

अमेरिका जाने वालों को देनी होगी अपनी सोशल मीडिया साइटों की जानकारी

वाशिंगटन (भाषा)।   03 Jun 2019      Email  

अमेरिका में विदेशी नागरिकों के प्रवेश की बारीकी से जांच के लिए अपनाई गई नीति के तहत लगभग सभी वीजा आवेदकों को उनके सोशल मीडिया अकाउंट के बारे में भी जानकारी देनी होगी ताकि आतंकवादियों और अन्य खतरनाक लोगों को अमेरिका में प्रवेश से रोका जा सके।  विदेश विभाग ने शनिवार को एक नई नीति अपनाई जिसके तहत अस्थाई आगंतुकों समेत सभी वीजा आवेदकों को अन्य जानकारी के साथ-साथ एक ड्रॉप डाउन मेनू में अपने सोशल मीडिया अकाउंट के बारे में बताना होगा। सोशल मीडिया का इस्तेमाल नहीं करने वाले आवेदकों के पास इसमें एक अन्य विकल्प मौजूद होगा जिससे वह यह बता सकेंगे कि वह इनका इस्तेमाल नहीं करते हैं। अमेरिकी विदेश विभाग के एक अधिकारी ने हिल टीवी को बताया कि अगर वीजा आवेदक सोशल मीडिया इस्तेमाल के बारे में झूठ बोलता है तो उसे गंभीर आव्रजन परिणाम भुगतने होंगे। अब तक इस ड्रॉप डाउन मेनू में केवल बड़े सोशल मीडिया वेबसाइटों की जानकारी होती थी, लेकिन अब इसमें आवेदकों के लिए, इस्तेमाल की जाने वाली सभी साइटों की जानकारी देने की सुविधा उपलब्ध होगी। एक अधिकारी ने हिल टीवी को बताया कि यह संयुक्त राज्य अमेरिका में प्रवेश के लिए आवेदन करने वाले सभी विदेशी नागरिकों की बारीकी से जांच के उद्देश्य से एक महत्वपूर्ण कदम है। अधिकारी ने बताया कि हाल के वर्षों में जैसा हम लोगों ने दुनिया भर में देखा है कि आतंकवादी भावनाओं और गतिविधियों के लिए सोशल मीडिया एक बड़ा मंच बन सकता है। यह आतंकवादियों, जन सुरक्षा के खतरे और अन्य खतरनाक गतिविधियों की पहचान करने का एक उपकरण साबित होगा। इससे ऐसे लोगों को न तो आव्रजन लाभ मिलेगा और न ही अमेरिकी धरती पर पैर जमाने की सुविधा होगी। यह नीति मार्च 2017 में राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप द्वारा जारी एक शासनादेश के तहत बनाई गई है। विदेश मंत्रालय ने मार्च 2018 में नीति के कार्यान्वयन का इरादा जाहिर कर दिया था।


Comments

' data-width="100%">

अन्य खबरें

रुपया 21 पैसे उछला
रुपया 21 पैसे उछला

मुंबई 26 जून  दुनिया की प्रमुख मुद्राओं के बॉस्केट में अमेरिकी मुद्रा के कमजोर पड़ने से बुधवार को अंतरबैंकिंग मुद्र