लखनऊ से हिंदी एवं उर्दू में एकसाथ प्रकाशित राष्ट्रीय दैनिक समाचार पत्र
ताजा समाचार
सुल्तानपुर में फ्लाईओवर का पिलर टेढा होने पर जांच के आदेश
मोदी की टिप्पणी ‘हताशा का चरम’: तृणमूल
बहराइच में पानी के लिये भटका बारहसिंघा, कुत्तों ने नोचा
मलेशिया में नजीब रजाक के घर के आसपास घेराबंदी
बस खाई में गिरी, आठ की मौत
मोदी ने कर्नाटक के लोगों से किया बड़ी संख्या में मतदान करने का आग्रह
अमेरिका ने ईरान पर लगाए नए प्रतिबंध
कांग्रेस कर्नाटक में वापसी को लेकर आशवस्त
इजरायली सैनिकों की गोलीबारी में 350 फिलीस्तीनी घायल
पृथ्वी शॉ की तकनीक सचिन जैसी: मार्क वॉ
अमेरिका की पूर्व पहली महिला बारबरा बुश का निधन
वंशवाद और जातिवाद ने किया यूपी का बंटाढार
मुठभेड़ में लश्कर का शीर्ष कमांडर वसीम शाह ढेर
बलात्कार के मामले में तरुण तेजपाल के खिलाफ आरोप तय
शकुंतला विवि में दिव्यांग छात्रों के लिए बढ़ाई गईं सुविधाएं

स्थानीय

डेली न्यूज़ एक्टिविस्ट

मीडिया हाउस, 16/3 'घ',
सरोजिनी नायडू मार्ग, लखनऊ - 226001
फ़ोन : 91-522-2239969 / 2238436 / 40, फैक्स : 91-522-2239967/2239968
ईमेल : dailynewsactivist@yahoo.co.in, dailynewslko@gmail.com
वेबसाइट : http://www.dnahindi.com
ई-पेपर : http://www.dailynewsactivist.com

मियाद पूरी, ग्राम पंचायतों की ऑनलाइन फीडिंग अटकी

मियाद पूरी, ग्राम पंचायतों की ऑनलाइन फीडिंग अटकी

लखनऊ। डेली न्यूज नेटवर्क  24 Apr 2019      Email  

नौ माह से 570 ग्राम पंचायतों की संपत्तियों को चिन्हित कर उनकी ऑन लाइन फीडिंग का चल रहा काम
ग्राम पंचायत के स्वामित्व वाली भू संपत्तियों की ऑन लाइन फीडिंग का कार्य तय मियाद बाद भी अधूरा रह जाने पर नाराज प्रशासन ने जिम्मेदारों को चिन्हित कर कार्रवाई के घेरे में लाने की चेतावनी दी है। बीते नौ माह से जिले की 570 ग्राम पंचायतों की संपत्तियों को चिन्हित कर उनकी ऑन लाइन फीडिंग कराने का कार्य चल रहा है। इसका उद्देश्य संपत्ति की भौगोलिक स्थिति को फोटो सहित जुटाना था ताकि एक क्लिक पर ग्राम पंचायत भवन, नाली, खड़ंजा, सड़क, हैंडपंप, स्कूल, आंगनबाड़ी केंद्र की जानकारी मिल सके। सुस्ती दिखाने वाले तीन वीडीओ सहित अन्य जिम्मेदारों को नोटिस जारी कर डेटा फीडिंग में हो रही लेटलतीफी के लिए लिखित स्पष्टीकरण तलब किया गया है।  
शासन स्तर से ग्राम पंचायतों के स्वामित्व में दर्ज अचल संपत्तियों को ग्राम्य विकास विभाग द्वारा विशेषतौर पर तैयार कराए गए एम एसेट एप्लीकेशन पर दर्ज कर ऑन लाइन किए जाने का निर्देश दिया गया था। नौ माह बीत जाने केबावजूद महज चालीस फीसदी ग्राम पंचायतों की अचल संपत्तियां ही अब तक डाटा फीडिंग में दर्ज हो सकी है। 
इससे पर नाराजगी जताते हुए जिलाधिकारी ने ऑन लाइन फीडिंग में लेटलतीफी के जिम्मेदारों को चिह्नित कर कार्रवाई के घेरे में लाने का निर्देश दिया है। यह जानकारी प्रभारी अधिकारी व एडीएम प्रशासन एसपी गुप्ता ने दी। उन्होंने बताया कि पंचायती राज विभाग के स्तर पर जारी निर्देश के तहत सभी ग्राम पंचायतों की अचल संपत्तियों को ऑनलाइन दर्ज करने का कार्य वर्तमान में चल रहा है। इसमें संपत्ति का पूरा ब्योरा फोटो सहित उसकी भैगोलिक स्थिति के साथ अपलोड किया जाना था ताकि महज एक क्लिक पर ग्राम पंचायत भवन, नाली, खड़ंजा, सड़क, हैंडपंप, स्कूल, आंगनबाड़ी केंद्र आदि की जानकारी विभागीय वेबसाइट के माध्यम से प्राप्त कर इस पर होने वाली अवैध कब्जेदारी को चिह्नित कर आरोपियों पर कार्रवाई की जा सके। 
इसके लिए ग्राम पंचायत अधिकारियों (वीडीओ) को विशेष तौर पर प्रशिक्षण भी दिया गया था। सुस्त रफ्तार कार्य के चलते अब तक दो बार फीडिंग कार्य की तय समय सीमा को बढ़ाया जा चुका है। इसके बावजूद अभी तक महज ४० फीसदी ग्राम पंचायतों में ही फीडिंग कार्य पूरा हो सका है। डीएम की नाराजगी बाद एडीएम प्रशासन ने कार्य में शिथिलता बरतने के आरोप में तीन ग्राम्य विकास अधिकारी (वीडीओ) सहित आधा दर्जन से अधिक जिम्मेदारों को नोटिस जारी करते हुए लिखित स्पष्टीकरण मांगा है। इसके आधार पर ही आरोपियों के आगे की कार्रवाई तय होगी। 


Comments

' data-width="100%">

अन्य खबरें