लखनऊ से हिंदी एवं उर्दू में एकसाथ प्रकाशित राष्ट्रीय दैनिक समाचार पत्र
ताजा समाचार
माेदी सरकार से जनता की अपेक्षायें बढ़ी: रामदेव
सुल्तानपुर में फ्लाईओवर का पिलर टेढा होने पर जांच के आदेश
मोदी की टिप्पणी ‘हताशा का चरम’: तृणमूल
बहराइच में पानी के लिये भटका बारहसिंघा, कुत्तों ने नोचा
मलेशिया में नजीब रजाक के घर के आसपास घेराबंदी
बस खाई में गिरी, आठ की मौत
मोदी ने कर्नाटक के लोगों से किया बड़ी संख्या में मतदान करने का आग्रह
अमेरिका ने ईरान पर लगाए नए प्रतिबंध
कांग्रेस कर्नाटक में वापसी को लेकर आशवस्त
इजरायली सैनिकों की गोलीबारी में 350 फिलीस्तीनी घायल
पृथ्वी शॉ की तकनीक सचिन जैसी: मार्क वॉ
अमेरिका की पूर्व पहली महिला बारबरा बुश का निधन
वंशवाद और जातिवाद ने किया यूपी का बंटाढार
मुठभेड़ में लश्कर का शीर्ष कमांडर वसीम शाह ढेर
बलात्कार के मामले में तरुण तेजपाल के खिलाफ आरोप तय

राज्य

डेली न्यूज़ एक्टिविस्ट

मीडिया हाउस, 16/3 'घ',
सरोजिनी नायडू मार्ग, लखनऊ - 226001
फ़ोन : 91-522-2239969 / 2238436 / 40, फैक्स : 91-522-2239967/2239968
ईमेल : dailynewsactivist@yahoo.co.in, dailynewslko@gmail.com
वेबसाइट : http://www.dnahindi.com
ई-पेपर : http://www.dailynewsactivist.com

छोड़ो पुराने कम्प्यूटर का मोह,बचेंगे लाखों रूपये : माइक्रोसॉफ्ट

छोड़ो पुराने कम्प्यूटर का मोह,बचेंगे लाखों रूपये : माइक्रोसॉफ्ट

लखनऊ, 26 जून (वार्ता)  26 Jun 2019      Email  

लखनऊ, 26 जून  एक ही आपरेटिंग सिस्टम पर काम करने की आदत बना चुके उद्यमियो और पेशेवरों को यह जानकर हैरत होगी कि अगर वह कुछ जेब ढीली कर नवीनतम तकनीक से लैस कम्प्यूटराें का इस्तेमाल करें तो अप्रत्यक्ष रूप से उन्हे लाखों रूपये की बचत हो सकती है। 

माइक्रोसॉफ्ट ने अपनी एक सर्वेक्षण रिपोर्ट में दावा किया है कि चार साल से पुराने पीसी का उपयोग कर रहे उद्यमियों को प्रति डिवाइस 93 हजार 500 रूपये खर्च करने पड़ते हैं। मध्यम एवं लघु उद्योग (एसएमई) पर किए गए सर्वेक्षण के परिणामों पर आधारित ‘टेकआइल’ में खुलासा किया गया है कि पुराने पीसी का इस्तेमाल करने से मरम्मत, उत्पादकता की कमी एवं सुरक्षा में जोखिम के चलते उपयोगकर्ता को यह अतिरिक्त खर्च उठाना पड़ता है। सर्वेक्षण में यह भी पता चला है कि चार साल से पुराने एक पीसी की रखरखाव में आने वाले लागत पर तीन या अधिक आधुनिक पीसी खरीदे जा सकते हैं। यह सर्वेक्षण लखनऊ और भारत के 20 अन्य शहरों में एसएमई पर किया गया।

माइक्रोसॉफ्ट इण्डिया की ग्रुप डायरेक्टर फरहाना हक ने यहां पत्रकारों को बताया कि उत्तर प्रदेश में 89 लाख से अधिक एमएसएमई हैं, जो देश में सबसे अधिक है। यह उद्यम 1.65 करोड़ से अधिक लोगों को रोज़गार देते हैं। सीआईआई की रिपोर्ट के अनुसार एमएसएमई राज्य के ओद्यौगिक आउटपुट में तकरीबन 60 फीसदी का योगदान देते हैं। पीसी यानि पर्सनल कम्प्यूटर एसएमई के संचालन में बेहतर दक्षता, बेहतर उत्पादकता और बेहतर विकास के लिए मार्ग प्रशस्त करते हैं। हालांकि जब एक पीसी चार साल से अधिक पुराना होजाता है, इसके इस्तेमाल की लागत कई गुना बढ़ जाती है। यह अतिरिक्त लागत पीसी की मरम्मत, रखरखाव, उत्पादकता में कमी की वजह से होती है।

हक ने बताया कि सर्वेक्षण में पाया गया कि एसएमई नए पीसी खरीदने से घबराते हैं, क्योंकि उन्हें लगता है कि वर्तमान में वे जिन ऐप्लीकेशन्स का इस्तेमाल कर रहे हैं, वे अपग्रेडेड पीसी पर काम नहीं करेंगे, या उनके पास नए पीसी खरीदने के लिए धनराशि नहीं होती। एसएमई मालिक अक्सर अल्पकालिक लागत पर ध्यान केन्द्रित करते हैं, जो ज़्यादातर मामलों में सही नहीं होता, बल्कि अक्सर इसकी वज़ह से ज़्यादा लागत आती है। ज़्यादातर मामलों में पुराने पीसी की मरम्मत पर खर्च होने वाली लागत नए पीसी की खरीद की तुलना में अधिक होती है।


Comments

' data-width="100%">

अन्य खबरें

मानसून सत्र के पहले दिन विपक्ष के हंगामे के बीच परिषद की कार्यवाही स्थगित
मानसून सत्र के पहले दिन विपक्ष के हंगामे के बीच परिषद की कार्यवाही स्थगित

लखनऊ,18 जुलाई  उत्तर प्रदेश में कानून व्यवस्था के मुद्दे को लेकर विपक्षी सदस्याें के हंगामे के बीच विधान परिषद के म

रुपया 15 पैसे फिसला
रुपया 15 पैसे फिसला

मुंबई 18 जुलाई  वैश्विक स्तर पर दुनिया की प्रमुख मुद्राओं में आयी तेजी और घरेलू स्तर पर शेयर बाजार में गिरावट से बन

गरीब बच्चों का प्रवेश देने से बचने निजी स्कूल दिखा रहे कम संख्या- जोगी
गरीब बच्चों का प्रवेश देने से बचने निजी स्कूल दिखा रहे कम संख्या- जोगी

रायपुर 18 जुलाईजनता कांग्रेस सदस्य पूर्व मुख्यमंत्री अजीत जोगी ने आज विधानसभा में शिक्षा के अधिकार(आरटीई) के तहत गरीब बच