लखनऊ से हिंदी एवं उर्दू में एकसाथ प्रकाशित राष्ट्रीय दैनिक समाचार पत्र
ताजा समाचार
माेदी सरकार से जनता की अपेक्षायें बढ़ी: रामदेव
सुल्तानपुर में फ्लाईओवर का पिलर टेढा होने पर जांच के आदेश
मोदी की टिप्पणी ‘हताशा का चरम’: तृणमूल
बहराइच में पानी के लिये भटका बारहसिंघा, कुत्तों ने नोचा
मलेशिया में नजीब रजाक के घर के आसपास घेराबंदी
बस खाई में गिरी, आठ की मौत
मोदी ने कर्नाटक के लोगों से किया बड़ी संख्या में मतदान करने का आग्रह
अमेरिका ने ईरान पर लगाए नए प्रतिबंध
कांग्रेस कर्नाटक में वापसी को लेकर आशवस्त
इजरायली सैनिकों की गोलीबारी में 350 फिलीस्तीनी घायल
पृथ्वी शॉ की तकनीक सचिन जैसी: मार्क वॉ
अमेरिका की पूर्व पहली महिला बारबरा बुश का निधन
वंशवाद और जातिवाद ने किया यूपी का बंटाढार
मुठभेड़ में लश्कर का शीर्ष कमांडर वसीम शाह ढेर
बलात्कार के मामले में तरुण तेजपाल के खिलाफ आरोप तय

बिज़नेस

डेली न्यूज़ एक्टिविस्ट

मीडिया हाउस, 16/3 'घ',
सरोजिनी नायडू मार्ग, लखनऊ - 226001
फ़ोन : 91-522-2239969 / 2238436 / 40, फैक्स : 91-522-2239967/2239968
ईमेल : dailynewsactivist@yahoo.co.in, dailynewslko@gmail.com
वेबसाइट : http://www.dnahindi.com
ई-पेपर : http://www.dailynewsactivist.com

नोटबंदी वाले 99.3 फीसदी बैंक नोट रिजर्व बैंक में लौटे

नोटबंदी वाले 99.3 फीसदी बैंक नोट रिजर्व बैंक में लौटे

नयी दिल्ली 29 अगस्त (वार्ता)  29 Aug 2018      Email  

नयी दिल्ली 29 अगस्त  भारतीय रिजर्व बैंक ने कहा है कि वर्ष 2016 के नवंबर में 500 रुपये और एक हजार रुपये मूल्य के पुराने नोटों का प्रचलन बंद किये जाने के बाद इनमें 99.3 फीसदी बैंक नोट उसके पास वापस आ गये हैं। 

केन्द्रीय बैंक ने बुधवार को जारी अपनी वार्षिक रिपोर्ट में कहा है कि नोटबंदी के वाले 500 रुपये और एक हजार रुपये के 15,310.73 लाख करोड़ रुपये मूल्य के पुराने नोट वापस आये। नोटबंदी से पहले 08 नवंबर 2016 को 15,417.93 लाख करोड़ रुपये मूल्य के 500 और एक हजार रुपये के पुराने बैंक नोट प्रचलन में थे। 

रिपोर्ट में कहा गया है कि नोटबंदी के बाद 500 रुपये और दो हजार रुपये के नये बैंक नोटों के साथ अन्य नोटों की छपाई पर कुल 7,965 करोड़ रुपये व्यय हुआ था जबकि वर्ष 2015-16 में नोट छपाई पर 3,421 करोड़ रुपये व्यय किया गया था। वर्ष 2017-18 में जुलाई 2017 से जून 2018 के दौरान बैंक नोटों की छपाई पर कुल 4,912 करोड़ रुपये व्यय किये गये हैं। 

रिजर्व बैंक के आँकड़ों के अनुसार, इस वर्ष मार्च अंत तक 18,037 लाख करोड़ रुपये मूल्य के नोट प्रचलन में थे जो मार्च 2017 में प्रचलन में रहे नोटों की तुलना में 37.7 प्रतिशत अधिक है। वर्ष 2017-18 में दो हजार रुपये के नोटों की तुलना में 500 रुपये के नये नोटों की अधिक आपूर्ति की गयी। वर्ष 2017-18 में इससे पिछले वर्ष की तुलना में दो हजार रुपये के नोटों की आपूर्ति में जहाँ 37.3 फीसदी की कमी आयी है, वहीं 500 रुपये के नोटों की आपूर्ति में 50.2 फीसदी की वृद्धि हुयी। इस अवधि में प्रचलन में 500 रुपये की हिस्सेदारी वर्ष 2016-17 के 22.5 फीसदी की तुलना में वर्ष 2017-18 में बढ़कर 50.2 फीसदी हो गयी है। मार्च 2018 में 200 रुपये मूल्य के नये नोट का प्रचलन में हिस्सेदारी 2.1 फीसदी थी। 

रिजर्व बैंक ने कहा है कि नोटबंदी वाले नोटों को उच्च गुणवत्ता वाली मशीनों से जाँच और गिनती की गयी है। नोटों की गिनती सप्ताह में छह दिन चौबीसों घंटे की गयी है। इसके लिए व्यावसायिक बैंकों के पास उपलब्ध आठ अतिरिक्त मशीनों का उपयोग किये जाने के साथ ही सात मशीनें किराये पर भी लिये गये। केन्द्रीय बैंक के सभी केन्द्रों पर नोटबंदी वाले नोटों की गिनती पूरी हो गयी है और कुल 15,310.73 लाख करोड़ रुपये मूल्य के पुराने नोट लौटे हैं। 

रिपोर्ट में कहा गया है कि वर्ष 2016-17 की तुलना में वर्ष 2017-18 में 100 रुपये मूल्य के नकली नोटों को पकड़ने में 35 फीसदी की बढोतरी हुयी है। पचास रुपये मूल्य के नोटों में यह 154.3 प्रतिशत रही है। पाँच सौ रुपये और दो हजार रुपये के नये नोटों में नकली नोट पाये गये हैं। वर्ष 2016-17 में 500 रुपये के 199 नोट और दो हजार रुपये के 638 नोट पकड़े गये थे जबकि वर्ष 2017-18 में यह बढ़कर क्रमश: 9,892 और 17,929 हो गये।


Comments

' data-width="100%">

अन्य खबरें

रुपया 21 पैसे उछला
रुपया 21 पैसे उछला

मुंबई 26 जून  दुनिया की प्रमुख मुद्राओं के बॉस्केट में अमेरिकी मुद्रा के कमजोर पड़ने से बुधवार को अंतरबैंकिंग मुद्र