लखनऊ से हिंदी एवं उर्दू में एकसाथ प्रकाशित राष्ट्रीय दैनिक समाचार पत्र
ताजा समाचार
नारी गरिमा और उसके सम्मान की रक्षा के लिए तीन तलाक बिल आवश्यक था
माेदी सरकार से जनता की अपेक्षायें बढ़ी: रामदेव
सुल्तानपुर में फ्लाईओवर का पिलर टेढा होने पर जांच के आदेश
मोदी की टिप्पणी ‘हताशा का चरम’: तृणमूल
बहराइच में पानी के लिये भटका बारहसिंघा, कुत्तों ने नोचा
मलेशिया में नजीब रजाक के घर के आसपास घेराबंदी
बस खाई में गिरी, आठ की मौत
मोदी ने कर्नाटक के लोगों से किया बड़ी संख्या में मतदान करने का आग्रह
अमेरिका ने ईरान पर लगाए नए प्रतिबंध
कांग्रेस कर्नाटक में वापसी को लेकर आशवस्त
इजरायली सैनिकों की गोलीबारी में 350 फिलीस्तीनी घायल
पृथ्वी शॉ की तकनीक सचिन जैसी: मार्क वॉ
अमेरिका की पूर्व पहली महिला बारबरा बुश का निधन
वंशवाद और जातिवाद ने किया यूपी का बंटाढार
मुठभेड़ में लश्कर का शीर्ष कमांडर वसीम शाह ढेर

विदेश

डेली न्यूज़ एक्टिविस्ट

मीडिया हाउस, 16/3 'घ',
सरोजिनी नायडू मार्ग, लखनऊ - 226001
फ़ोन : 91-522-2239969 / 2238436 / 40, फैक्स : 91-522-2239967/2239968
ईमेल : dailynewsactivist@yahoo.co.in, dailynewslko@gmail.com
वेबसाइट : http://www.dnahindi.com
ई-पेपर : http://www.dailynewsactivist.com

भारत,द. कोरिया रक्षा उद्योग सहयोग बढ़ाने पर सहमत

भारत,द. कोरिया रक्षा उद्योग सहयोग बढ़ाने पर सहमत

सोल 22 फरवरी (वार्ता)  22 Feb 2019      Email  

सोल 22 फरवरी  भारत और दक्षिण कोरिया के बीच सैन्य संबंधों तथा रक्षा उद्योग सहयोग बढ़ाने पर शुक्रवार को सहमति बनी, दक्षिण कोरिया के राष्ट्रपति कार्यालय चियोंग वा डाइ के मुताबिक भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और दक्षिण कोरिया के राष्ट्रपति मून जे-इन के बीच आज हुई बैठक में इस आशय की सहमति प्रदान की गयी। दोनों नेता सैन्य और रक्षा उत्पादन सहयोग को मजबूत करने और चौथी औद्योगिक क्रांति का बेहतर सामना करने पर भी सहमत हुए।

बाद में श्री मोदी ने संयुक्त प्रेस कांफ्रेंस में कहा कि दोनों देशों ने रक्षा तकनीक तथा सह उत्पादन पर रोडमैप तैयार करने में सहयोग करने पर भी सहमति प्रदान की है। उन्होंने दक्षिण कोरिया की कंपनियों से भारत के रक्षा उद्योग कॉरिडोर में निवेश करने की भी अपील की है। 

दोनों नेताओं ने वर्ष 2010 से प्रभावी मुक्त व्यापार समझौते यानी व्यापक आर्थिक भागीदारी समझौता (सीपा) को बढ़ाने के लिए वार्ता को गति देने पर सहमति व्यक्त की है।

सीपा के तहत बाजार उदारीकरण पर जोर देने के लिए अबतक सात दौर की बातचीत हो चुकी है। दोनों ने वर्ष 2030 तक व्यापार को दोगुना करके इसे 50 अरब डॉलर तक के अपने साझा लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए सहयोग करने का भी आश्वासन दिया।

पिछले साल, दो-तरफा व्यापार के तहत 21.5 अरब डॉलर के रिकॉर्ड स्तर पर पहुंच गया, जिससे भारत दक्षिण कोरिया का सातवां सबसे बड़ा निर्यात गंतव्य बन गया।

श्री मून ने कहा,“हम बुनियादी ढांचे के विकास से लेकर कृषि और मत्स्य पालन तक कई क्षेत्रों में सहयोग के दायरे का विस्तार करने पर सहमत हुए हैं।” 

राष्ट्रपति कार्यालय की प्रवक्ता किम यूई-केयोम के अनुसार दोनाें नेताओं ने परमाणु ऊर्जा संयंत्र के निर्माण में दक्षिण कोरियाई कंपनियों की भागीदारी की संभावना पर भी चर्चा की।

भारत ने सात अतिरिक्त परमाणु रिएक्टर बनाने की अपनी योजना में सोल की भागीदारी के लिए आग्रह किया है। 

श्री किम ने श्री मून के हवाले से कहा, “दक्षिण कोरिया ने पिछले 40 वर्षों से अपनी स्वदेशी तकनीक से परमाणु रिएक्टरों का निर्माण किया है। इसकी तकनीक को अंतरराष्ट्रीय स्तर पर मान्यता प्राप्त है।”

उन्होंने कहा, “अगर भारत परमाणु रिएक्टरों का निर्माण करता है, तो कोरियाई कंपनियां बड़ा योगदान देंगी। अगर भारत कोरियाई कंपनियों को बहुत अधिक तरजीह देता है तो हम इसकी सराहना करेंगे।”

इसके अलावा श्री मून और श्री मोदी ने मानव, सांस्कृतिक और पर्यटन आदान-प्रदान के विस्तार पर भी सहमति व्यक्त की।

दक्षिण कोरियाई लोगों को तीन साल तक भारत में रहने की अनुमति दी जाएगी। वह भारतीय लोगों के लिए समूह टूर वीजा भी जारी करेगा।

श्री मून ने श्री मोदी के लिए आयोजित दावत की मेजबानी की जिसमें स्थानीय व्यापार जगत के नेताओं ने भी भाग लिया। इनमें सैमसंग इलेक्ट्रॉनिक्स कंपनी के उपाध्यक्ष ली जोंग-योंग और हुंडई मोटर ग्रुप के कार्यकारी उपाध्यक्ष चुंग इयसुन भी शामिल थे।


Comments

' data-width="100%">

अन्य खबरें

छात्रा के खिलाफ भी मामला दर्ज
छात्रा के खिलाफ भी मामला दर्ज

स्वामी चिन्मयानंद से रंगदारी मांगने का मामला पूर्व केंद्रीय गृह राज्यमंत्री स्वामी चिन्मयानंद की गिरफ्तारी के बीच विशेष

जलभराव प्रभावित क्षेत्रों में राहत एवं पुनर्वास कार्य तेजी से हों-मिश्र
जलभराव प्रभावित क्षेत्रों में राहत एवं पुनर्वास कार्य तेजी से हों-मिश्र

कोटा, 21 सितम्बर  राजस्थान के राज्यपाल कलराज मिश्र ने शनिवार को कोटा संभाग में हवाई निरीक्षण करके बाढ़ से प्रभावित