लखनऊ से हिंदी एवं उर्दू में एकसाथ प्रकाशित राष्ट्रीय दैनिक समाचार पत्र
ताजा समाचार
नारी गरिमा और उसके सम्मान की रक्षा के लिए तीन तलाक बिल आवश्यक था
माेदी सरकार से जनता की अपेक्षायें बढ़ी: रामदेव
सुल्तानपुर में फ्लाईओवर का पिलर टेढा होने पर जांच के आदेश
मोदी की टिप्पणी ‘हताशा का चरम’: तृणमूल
बहराइच में पानी के लिये भटका बारहसिंघा, कुत्तों ने नोचा
मलेशिया में नजीब रजाक के घर के आसपास घेराबंदी
बस खाई में गिरी, आठ की मौत
मोदी ने कर्नाटक के लोगों से किया बड़ी संख्या में मतदान करने का आग्रह
अमेरिका ने ईरान पर लगाए नए प्रतिबंध
कांग्रेस कर्नाटक में वापसी को लेकर आशवस्त
इजरायली सैनिकों की गोलीबारी में 350 फिलीस्तीनी घायल
पृथ्वी शॉ की तकनीक सचिन जैसी: मार्क वॉ
अमेरिका की पूर्व पहली महिला बारबरा बुश का निधन
वंशवाद और जातिवाद ने किया यूपी का बंटाढार
मुठभेड़ में लश्कर का शीर्ष कमांडर वसीम शाह ढेर

राज्य

डेली न्यूज़ एक्टिविस्ट

मीडिया हाउस, 16/3 'घ',
सरोजिनी नायडू मार्ग, लखनऊ - 226001
फ़ोन : 91-522-2239969 / 2238436 / 40, फैक्स : 91-522-2239967/2239968
ईमेल : dailynewsactivist@yahoo.co.in, dailynewslko@gmail.com
वेबसाइट : http://www.dnahindi.com
ई-पेपर : http://www.dailynewsactivist.com

बक्सर केंद्रीय कारा में तैयार हो रहे फांसी के दस फंदे

बक्सर केंद्रीय कारा में तैयार हो रहे फांसी के दस फंदे

बक्सर 09 दिसंबर (वार्ता)  09 Dec 2019      Email  

बक्सर 09 दिसंबर  तेलंगाना के हैदराबाद में दुष्कर्म और हत्या मामले के आरोपियों के पुलिस मुठभेड़ में मारे जाने के बाद दिल्ली निर्भया कांड के आरोपियों को फांसी पर लटकाए जाने की जोर पकड़ती मांग के बीच बिहार के बक्सर केंद्रीय कारा को इस वर्ष 14 दिसंबर तक फांसी के दस फंदे तैयार करने के निर्देश से कयास और अटकलें तेज हो गई हैं लेकिन अभी तक जेल प्रशासन को भी नहीं पता है कि ये फंदे क्यों बनवाए जा रहे हैं।

आधिकारिक सूत्रों ने आज यहां बताया कि कारा प्रशासन को जेल निदेशालय से पिछले सप्ताह फांसी के दस फंदे तैयार करने का निर्देश प्राप्त हुआ है। निर्देश में इन फंदों को 14 दिसंबर 2019 तक तैयार करने को कहा गया है। हालांकि जेल प्रशासन को भी अभी तक नहीं पता है कि इन फंदों का इस्तेमाल कहां और किसके लिए किया जाएगा।

सूत्रों ने बताया कि बक्सर केंद्रीय कारा में काफी लंबे समय से फांसी के फंदे बनाए जाते रहे हैं। पांच-छह कैदियों की दो-तीन दिन की कड़ी मशक्कत के बाद एक फंदा तैयार होता है। इसे बनाने में 7200 कच्चे धागों का इस्तेमाल किया जाता है। इससे पूर्व संसद हमले के मामले में अफजल गुरु को मौत की सजा देने के लिए इस जेल में तैयार किये गये फांसी के फंदे का इस्तेमाल किया गया था।

गौरतलब है कि अटकलें लगाई जा रही है कि 16 दिसंबर 2012 को दिल्ली में एक चलती बस में एक युवती से दुष्कर्म के चार दोषियों को इस महीने के अंत में फांसी दी जा सकती है। केंद्रीय गृह मंत्रालय ने शुक्रवार को इन आरोपियों की दया याचिका की फाइल अंतिम निर्णय के लिए राष्ट्रपति को भेज दी है। वहीं, दो दिन पहले दिल्ली के उप राज्यपाल अनिल बैजल ने भी केंद्रीय गृह मंत्रालय को रिपोर्ट भेजी थी, जिसमें कहा गया था कि दोषी की सजा किसी भी सूरत में माफ किए जाने योग्य नहीं है।


Comments

' data-width="100%">

अन्य खबरें

रेल टिकटाें की कालाबाज़ारी: अंतरराष्ट्रीय गिरोह के 24 अपराधी गिरफ्तार
रेल टिकटाें की कालाबाज़ारी: अंतरराष्ट्रीय गिरोह के 24 अपराधी गिरफ्तार

नयी दिल्ली, 21 जनवरी  अवैध साॅफ्टवेयर के माध्यम से तत्काल श्रेणी के रेलटिकटों की कालाबाज़ारी करने के वालों के खिलाफ