लखनऊ से हिंदी एवं उर्दू में एकसाथ प्रकाशित राष्ट्रीय दैनिक समाचार पत्र
ताजा समाचार
सुल्तानपुर में फ्लाईओवर का पिलर टेढा होने पर जांच के आदेश
मोदी की टिप्पणी ‘हताशा का चरम’: तृणमूल
बहराइच में पानी के लिये भटका बारहसिंघा, कुत्तों ने नोचा
मलेशिया में नजीब रजाक के घर के आसपास घेराबंदी
बस खाई में गिरी, आठ की मौत
मोदी ने कर्नाटक के लोगों से किया बड़ी संख्या में मतदान करने का आग्रह
अमेरिका ने ईरान पर लगाए नए प्रतिबंध
कांग्रेस कर्नाटक में वापसी को लेकर आशवस्त
इजरायली सैनिकों की गोलीबारी में 350 फिलीस्तीनी घायल
पृथ्वी शॉ की तकनीक सचिन जैसी: मार्क वॉ
अमेरिका की पूर्व पहली महिला बारबरा बुश का निधन
वंशवाद और जातिवाद ने किया यूपी का बंटाढार
मुठभेड़ में लश्कर का शीर्ष कमांडर वसीम शाह ढेर
बलात्कार के मामले में तरुण तेजपाल के खिलाफ आरोप तय
शकुंतला विवि में दिव्यांग छात्रों के लिए बढ़ाई गईं सुविधाएं

देश

डेली न्यूज़ एक्टिविस्ट

मीडिया हाउस, 16/3 'घ',
सरोजिनी नायडू मार्ग, लखनऊ - 226001
फ़ोन : 91-522-2239969 / 2238436 / 40, फैक्स : 91-522-2239967/2239968
ईमेल : dailynewsactivist@yahoo.co.in, dailynewslko@gmail.com
वेबसाइट : http://www.dnahindi.com
ई-पेपर : http://www.dailynewsactivist.com

कुछ जज भले झुक जायें, लेकिन सभी नहीं: जस्टिस चेलमेश्वर

कुछ जज भले झुक जायें, लेकिन सभी नहीं: जस्टिस चेलमेश्वर

नयी दिल्ली, 02 मार्च (वार्ता)  02 Mar 2019      Email  

नयी दिल्ली, 02 मार्च  उच्चतम न्यायालय के पूर्व न्यायाधीश जस्ती चेलमेश्वर ने शनिवार को कहा कि कुछ न्यायाधीश ऐसे भी हैं जिन्हें झुकाया जा सकता है, लेकिन सभी न्यायाधीशों को एक ही तराजू में तौलना नहीं चाहिए। 

इंडिया टुडे कॉन्क्लेव, 2019 के दूसरे दिन आज न्यायमूर्ति चेलमेश्वर ने गत वर्ष 12 जनवरी को चार न्यायाधीशों की ओर से आयोजित संवाददाता सम्मेलन सहित न्यायपालिका से जुड़े विभिन्न मुद्दों पर बेबाक टिप्पणी की। 

न्यायाधीशों के समझौता करने या नहीं करने को लेकर किये गये एक सवाल के जवाब में न्यायमूर्ति चेलमेश्वर ने कहा कि कुछ न्यायाधीश ऐसे भी हैं जिन्हें झुकाया जा सकता है, लेकिन सभी न्यायाधीशों को एक ही चश्मे से नहीं देखा जाना चाहिए।

उन्होंने कहा कि सिर्फ भारत ही नहीं, बल्कि दुनिया में भी न्यायपालिका में संकट आता रहा है। ऐसे में न्यायाधीशों को लेकर भी सवाल उठते रहे हैं, लेकिन सभी न्यायाधीशों को एक नजरिये से नहीं देखा जा सकता है। 

गत वर्ष 12 जनवरी को चार न्यायाधीशों की ओर से किये गये संवाददाता सम्मेलन के बारे में पूछे जाने पर उन्होंने कहा कि लोकतंत्र में सवाल पूछना कोई विरोध नहीं होता। 

उनसे यह पूछा गया था कि उस घटना से पहले कभी इस तरह का संवाददाता सम्मेलन नहीं किया गया था। उन्होंने कहा, “अगर कुछ कभी नहीं हुआ, तो इस मतलब यह नहीं कि कभी नहीं होगा। हमने प्रेस कांफ्रेंस के दौरान भी कहा था कि यह कुछ नया है। जब मैंने सवाल उठाये तो कुछ लोगों ने कहा कि मैं कोई एजेंडा चला रहा हूं. लेकिन मुझे फर्क नहीं पड़ता।”

पूर्व न्यायाधीश ने तत्कालीन मुख्य न्यायाधीश दीपक मिश्रा के खिलाफ लाये गये महाभियोग को लेकर भी बेबाक टिप्पणी की। उन्होंने कहा कि महाभियोग लाना किसी भी समस्या का हल नहीं है। उन्होंने कॉलेजियम प्रणाली में भी खामियों का जिक्र किया।

केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) को लेकर पिछले दिनों हुए विवाद पर उन्होंने कहा कि कोई भी राजनीतिक दल सीबीआई को नहीं सुधारना चाहता। उन्होंने कहा कि किसी भी दल के पास सीबीआई या किसी अन्य संस्थान को मजबूत करने का समय नहीं है।


Comments

' data-width="100%">

अन्य खबरें

पर्रिकर पंचतत्व में विलीन, राजकीय सम्मान के साथ हुआ अंतिम संस्कार
पर्रिकर पंचतत्व में विलीन, राजकीय सम्मान के साथ हुआ अंतिम संस्कार

गोवा के मुख्यमंत्री का अंतिम संस्कार सोमवार को राजकीय सम्मान के साथ किया गया और इस अवसर पर हजारों लोगों ने नम आंखों के स

अखिलेश, मुलायम, डिंपल, अजित व जयंत के खिलाफ प्रत्याशी नहीं उतारेगी कांग्रेस
अखिलेश, मुलायम, डिंपल, अजित व जयंत के खिलाफ प्रत्याशी नहीं उतारेगी कांग्रेस

यूपी में महागठबंधन में जगह न मिलने से लगातार अपनी रणनीति बदल रही कांग्रेस ने रविवार को एक और ऐलान किया है। कांग्रेस ने स

देश के पहले लोकपाल बन सकते हैं पूर्व न्यायाधीश पिनाकी चंद्र घोष
देश के पहले लोकपाल बन सकते हैं पूर्व न्यायाधीश पिनाकी चंद्र घोष

देश के पहले लोकपाल के तौर पर नियुक्ति के लिए उच्चतम न्यायालय के सेवानिवृत्त न्यायाधीश न्यायमूर्ति पिनाकी चंद्र घोष के ना