लखनऊ से हिंदी एवं उर्दू में एकसाथ प्रकाशित राष्ट्रीय दैनिक समाचार पत्र
ताजा समाचार
नारी गरिमा और उसके सम्मान की रक्षा के लिए तीन तलाक बिल आवश्यक था
माेदी सरकार से जनता की अपेक्षायें बढ़ी: रामदेव
सुल्तानपुर में फ्लाईओवर का पिलर टेढा होने पर जांच के आदेश
मोदी की टिप्पणी ‘हताशा का चरम’: तृणमूल
बहराइच में पानी के लिये भटका बारहसिंघा, कुत्तों ने नोचा
मलेशिया में नजीब रजाक के घर के आसपास घेराबंदी
बस खाई में गिरी, आठ की मौत
मोदी ने कर्नाटक के लोगों से किया बड़ी संख्या में मतदान करने का आग्रह
अमेरिका ने ईरान पर लगाए नए प्रतिबंध
कांग्रेस कर्नाटक में वापसी को लेकर आशवस्त
इजरायली सैनिकों की गोलीबारी में 350 फिलीस्तीनी घायल
पृथ्वी शॉ की तकनीक सचिन जैसी: मार्क वॉ
अमेरिका की पूर्व पहली महिला बारबरा बुश का निधन
वंशवाद और जातिवाद ने किया यूपी का बंटाढार
मुठभेड़ में लश्कर का शीर्ष कमांडर वसीम शाह ढेर

देश

डेली न्यूज़ एक्टिविस्ट

मीडिया हाउस, 16/3 'घ',
सरोजिनी नायडू मार्ग, लखनऊ - 226001
फ़ोन : 91-522-2239969 / 2238436 / 40, फैक्स : 91-522-2239967/2239968
ईमेल : dailynewsactivist@yahoo.co.in, dailynewslko@gmail.com
वेबसाइट : http://www.dnahindi.com
ई-पेपर : http://www.dailynewsactivist.com

लोकसभा चुनाव की प्रचंड जीत के बाद मोदी, भाजपा की पहली परीक्षा

लोकसभा चुनाव की प्रचंड जीत के बाद मोदी, भाजपा की पहली परीक्षा

नयी दिल्ली 21 सितम्बर (वार्ता)  21 Sep 2019      Email  

नयी दिल्ली 21 सितम्बर  गत मई अप्रैल में हुये लोकसभा चुनाव में प्रचंड बहुमत से जीतने वाली भारतीय जनता पार्टी और प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के लिये महाराष्ट्र और हरियाणा में आगामी 21 अक्टूबर को होने वाले विधानसभा चुनाव पहली बड़ी परीक्षा होंगे।

वर्ष 2014 में हुए विधानसभा चुनावों में इन दोनों राज्यों में भाजपा की सरकार बनी थी । हरियाणा में भाजपा अकेले सत्ता में आयी थी जबकि महाराष्ट्र में उसने शिवसेना के साथ मिलकर सरकार बनायी थी । चुनाव आयोग शनिवार काे दोनो राज्यों के चुनाव कार्यक्रम को घोषणा की। दोनो राज्यों में एक चरण में 21 अक्टूबर को चुनाव होंगे तथा 24 अक्टूबर को परिणाम घोषित किये जायेंगे।

महाराष्ट्र में पिछला विधानसभा चुनाव भाजपा और शिवसेना ने अलग - अलग चुनाव लड़ा था और भाजपा सबसे बड़ी पार्टी के रुप में उभरी थी लेकिन उसने शिवसेना के साथ मिलकर सरकार बनायी थी। उस समय में सत्तारुढ कांग्रेस और राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी का भी आपसीचुनावी समझौता नहीं पाया था। इन दोनों दलों ने अलग अलग चुनाव लड़ा था और उन्हें सत्ता से हाथ धोना पड़ा था।

पिछले चुनाव में 288 सदस्यीय विधानसभा के लिए भाजपा ने 260 उम्मीदवार चुनाव मैदान में उतारे थे और उसे 122 सीटों पर सफलता मिली थी । शिवसेना ने 282 सीटों पर चुनाव लड़ा था और वह 63 सीट जीतने में कामयाब रही थी । कांग्रेस ने 287 सीटों पर उम्मीदवार उतारा था लेकिन वह 42 विधानसभा क्षेत्रों में ही जीत पायी थी जबकि 278 क्षेत्रों में चुनाव लड़ने वाली राकांपा 41 सीट पर विजयी रही थी ।

शिवसेना को चुनौती देने का मंशा वाली महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना ने 229 सीटों पर प्रत्याशी उतारे थी और उसके सिर्फ एक उम्मीदवार कामयाबी का झंडा फहरा सके । इस चुनाव में समाजवादी पार्टी को भी एक सीट मिली थी लेकिन वामपंथियों का खाता तक नहीं खुला था । पिछले चुनाव में 70 निबंधित संगठनों तथा 1699 निर्दलीय उम्मीदवारों ने अपना चुनावी किश्मत आजमाया था जिनमें से सात निर्दलीय चुनाव जीत गये थे ।

हरियाणा में 2014 में हुये विधानसभा चुनाव में भाजपा ने शानदार सफलता हासिल कर कांग्रेस के दस वर्ष के शासन को समाप्त किया था। भाजपा ने नये चेहरे मनोहर लाल खट्टर को सरकार की बागडोर सौंपी थी। भाजपा ने 90 सदस्यीय हरियाणा विधानसभा चुनाव में सभी सीटों पर उम्मीदवार खड़े किये थे जिनमें से 47 निर्वाचित हुए थे। राज्य के तत्कालीन कांग्रेसी मुख्यमंत्री भूपेन्द्र सिंह हुड्डा के नेतृत्व में कांग्रेस 15 सीट ही जीत पायी थी। इंडियन नेशनल लोकदल ने 88 विधानसभा क्षेत्रों में उम्मीदवार खड़े किये थे और 19 सीटों पर विजयी हुये थे ।

गत लोकसभा चुनाव में चली मोदी लहर में इन दोनों राज्यों में भाजपा को भारी सफलता मिली। उसने हरियाणा की सभी दस सीटों पर कब्जा किया। महाराष्ट्र में भाजपा और शिवसेना ने साथ मिलकर चुनाव लड़ा था और 48 में से 41 सीटें जीती थीं। भाजपा को 23 और शिवसेना 18 सीटें मिली थीं। कांग्रेस और राकांपा को सिर्फ पांच सीटें मिल पायी थी। इनमें से कांग्रेस को सिर्फ एक सीट मिली थी।

लोकसभा चुनाव में 303 सीटें जीतने वाली भाजपा के लिये इन दोनों राज्यों के चुनाव पहली बड़ी परीक्षा होगी। हरियाणा में जहां वहां अकेले चुनाव लड़ेगी वहीं महाराष्ट्र में अभी शिवसेना के साथ मिलकर कर चुनाव लड़ने को लेकर पेंच फंसा हुआ है। शिवसेना बराबर सीटों पर चुनाव लड़ना चाहती है। वहीं मुख्यमंत्री के चेहरे को लेकर दोनों में सहमति नहीं बन पा रही है। भाजपा अध्यक्ष अमित शाह रविवार काे मुंबई में होंगे। वह दोनों दलों के नेताओं से बातचीत कर सीटों के बंटवारे को अंतिम रुप दे सकते हैं। कांग्रेस और राकांपा 125- 125 सीटों पर चुनाव लड़ने की घोषणा कर चुकी हैं।

लोकसभा चुनाव के बाद मोदी सरकार ने तीन तलाक , जम्मू कश्मीर में अनुच्छेद 370 समाप्त कर दो केन्द्र शासित प्रदेश बनाने , असम में राष्ट्रीय नागरिकता रजिस्टर लागू करने जैसे महत्वपूर्ण निर्णय लिए हैं । इसके साथ ही अर्थिक मंदी से निपटने के लिये अर्थ व्यवस्था में सुधार के लिए कई कदम उठाये जा रहे हैं । भाजपा दोनों राज्यों में इन्हें भुनाने का प्रयास करेगी।


Comments

' data-width="100%">

अन्य खबरें

देश का पानी अब पाकिस्तान नहीं जाएगा, पांच साल कांग्रेस के पुराने गड्ढे भरने में निकले: मोदी
देश का पानी अब पाकिस्तान नहीं जाएगा, पांच साल कांग्रेस के पुराने गड्ढे भरने में निकले: मोदी

गोहाना/हिसार, 18 अक्तूबर  प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कांग्रेस पर आज बड़ा हमला बोलते हुये कहा कि उसने देश में

रुपया दो पैसे चढ़ा
रुपया दो पैसे चढ़ा

मुंबई 18 अक्टूबर  दुनिया की प्रमुख मुद्राओं की तुलना में डॉलर के कमजाेर पड़ने और घरेलू स्तर पर शेयर बाजार में तेजी