लखनऊ से हिंदी एवं उर्दू में एकसाथ प्रकाशित राष्ट्रीय दैनिक समाचार पत्र
ताजा समाचार
नारी गरिमा और उसके सम्मान की रक्षा के लिए तीन तलाक बिल आवश्यक था
माेदी सरकार से जनता की अपेक्षायें बढ़ी: रामदेव
सुल्तानपुर में फ्लाईओवर का पिलर टेढा होने पर जांच के आदेश
मोदी की टिप्पणी ‘हताशा का चरम’: तृणमूल
बहराइच में पानी के लिये भटका बारहसिंघा, कुत्तों ने नोचा
मलेशिया में नजीब रजाक के घर के आसपास घेराबंदी
बस खाई में गिरी, आठ की मौत
मोदी ने कर्नाटक के लोगों से किया बड़ी संख्या में मतदान करने का आग्रह
अमेरिका ने ईरान पर लगाए नए प्रतिबंध
कांग्रेस कर्नाटक में वापसी को लेकर आशवस्त
इजरायली सैनिकों की गोलीबारी में 350 फिलीस्तीनी घायल
पृथ्वी शॉ की तकनीक सचिन जैसी: मार्क वॉ
अमेरिका की पूर्व पहली महिला बारबरा बुश का निधन
वंशवाद और जातिवाद ने किया यूपी का बंटाढार
मुठभेड़ में लश्कर का शीर्ष कमांडर वसीम शाह ढेर

स्थानीय

डेली न्यूज़ एक्टिविस्ट

मीडिया हाउस, 16/3 'घ',
सरोजिनी नायडू मार्ग, लखनऊ - 226001
फ़ोन : 91-522-2239969 / 2238436 / 40, फैक्स : 91-522-2239967/2239968
ईमेल : dailynewsactivist@yahoo.co.in, dailynewslko@gmail.com
वेबसाइट : http://www.dnahindi.com
ई-पेपर : http://www.dailynewsactivist.com

जबर्दस्त तपिश से झुलसा यूपी

जबर्दस्त तपिश से झुलसा यूपी

लखनऊ/नई दिल्ली (डीएनएन/भाषा)।   03 Jun 2019      Email  

उत्तर प्रदेश के ज्यादातर हिस्से रविवार को भी प्रचंड गर्मी में झुलसते रहे। प्रदेश के कुछ पूर्वी हिस्सों में तेज हवा के साथ हल्की बूंदाबांदी जरूर हुई लेकिन इससे खास राहत नहीं मिल सकी। खासकर प्रदेश के बुंदेलखंड इलाके में जबर्दस्त तपिश का दौर जारी है। पिछले 24 घंटों के दौरान बांदा एक बार फिर राज्य का सबसे गर्म स्थान रहा, जहां अधिकतम तापमान 47.4 डिग्री सेल्सियस रिकॉर्ड किया गया। आंचलिक मौसम केंद्र की रिपोर्ट के मुताबिक पिछले 24 घंटों के दौरान प्रदेश के कुछ पूर्वी भागों में तेज हवा के साथ मामूली बूंदाबांदी हुई। मगर इससे खास राहत नहीं मिली। प्रदेश के बाकी हिस्से में प्रचंड गर्मी पड़ रही है। इस दौरान प्रदेश के इलाहाबाद, झांसी और आगरा मंडलों में अधिकतम तापमान सामान्य से अधिक दर्ज किया गया। अगले 24 घंटों के दौरान राज्य के पूर्वी हिस्सों के कुछ इलाकों में बारिश होने अथवा गरजचमक के साथ छींटे पड़ने का अनुमान है। राज्य के पश्चिमी क्षेत्रों में प्रचंड गर्मी जारी रहने की संभावना है। दूसरी ओर उत्तर भारत के मैदानों, मध्य और दक्षिण भारत में दो और दिनों तक लू जारी रहने और फिर उसके धीरे-धीरे कम होने की संभावना है। भारतीय मौसम विभाग (आईएमडी) ने रविवार को कहा कि देश के उत्तरी हिस्सों में पूर्वी हवाओं के निम्न स्तर के कारण रविवार से पंजाब, हरियाणा, चंडीगढ़ और दिल्ली तथा उत्तर प्रदेश में लू की उग्रता काफी कम होने की संभावना है। आईएमडी ने मध्य प्रदेश और पश्चिम राजस्थान में सोमवार को तेज लू चलने का अनुमान जताया है। उसने इन दोनों राज्यों के लिए लाल रंग की चेतावनी जारी की है। आईएमडी के पास मौसम की उग्रता का संकेत देने के लिए चार रंग के कोड हैं - लाल रंग अत्यधिक उग्र मौसम के लिए है। इसके बाद एंबर, पीला और फिर हरा रंग आता है जो सामान्य मौसम का प्रतीक है। मौसम विभाग ने सोमवार के लिए पूर्वी राजस्थान और महाराष्ट्र में विदर्भ के लिए एंबर रंग और मराठावाड़ा, सूरत तथा कच्छ, उत्तर प्रदेश, हिमाचल प्रदेश, जम्मू कश्मीर, पंजाब, हरियाणा और दिल्ली के लिए पीले रंग की चेतावनी जारी की। देश के बड़े हिस्से में गत सप्ताह भयंकर लू चली। राजस्थान में तो तापमान 50 डिग्री सेल्सियस पर पहुंच गया। अगर किसी मैदानी हिस्से में अधिकतम तापमान लगातार दो दिनों तक 45 डिग्री सेल्सियस को पार कर जाता है तो इसे लू चलना कहता है। अगर तापमान लगातार दो दिन तक 47 डिग्री सेल्सियस के पार कर जाता है तो इसे भीषण लू कहा जाता है। वहीं समूचे उत्तर भारत में भीषण गर्मी, लू और तपिश के चलते आम जनजीवन अस्त व्यस्त हो गया है। मौसम विज्ञानियों के मुताबिक पाकिस्तान से आ रही गर्म पश्चिमी हवाओं के कारण गर्मी के यह हालात बने हैं लेकिन इस संकट के जल्द ही खत्म होने की संभावना है क्योंकि बंगाल की खाड़ी से चली पूर्वी हवाएं राहत लेकर पहुंचने वाली हैं। मौसम विभाग के उत्तरी क्षेत्र के प्रमुख वैज्ञानिक डॉ. कुलदीप श्रीवास्तव ने भाषा के साथ विशेष बातचीत में यह जानकारी दी। उन्होंने बताया कि पाकिस्तान और अफगानिस्तान से आने वाली गर्म पश्चिमी हवाएं उत्तर भारत में राजस्थान, उत्तर प्रदेश सहित अन्य इलाकों में गर्मी का प्रकोप बढ़ा देती हैं।



Comments

' data-width="100%">

अन्य खबरें

छात्रा के खिलाफ भी मामला दर्ज
छात्रा के खिलाफ भी मामला दर्ज

स्वामी चिन्मयानंद से रंगदारी मांगने का मामला पूर्व केंद्रीय गृह राज्यमंत्री स्वामी चिन्मयानंद की गिरफ्तारी के बीच विशेष

जलभराव प्रभावित क्षेत्रों में राहत एवं पुनर्वास कार्य तेजी से हों-मिश्र
जलभराव प्रभावित क्षेत्रों में राहत एवं पुनर्वास कार्य तेजी से हों-मिश्र

कोटा, 21 सितम्बर  राजस्थान के राज्यपाल कलराज मिश्र ने शनिवार को कोटा संभाग में हवाई निरीक्षण करके बाढ़ से प्रभावित