लखनऊ से हिंदी एवं उर्दू में एकसाथ प्रकाशित राष्ट्रीय दैनिक समाचार पत्र
ताजा समाचार
कोरोना के 2.56 लाख से अधिक नमूनों की जांच
देश में कुल 1,268 कोरोना टेस्ट लैब
रक्षा मंत्री का लद्दाख दौरा स्थगित
पुतिन 2036 तक बने रहेंगे राष्ट्रपति
श्रमिको के अधिकार रौंदने की कोशिश अनुचित:राहुल
प्रवासी मजदूरों की मौत पर मगरमच्छ के आंसू बहा रहा है केंद्र: चिदम्बरम
जापान में कोरोना संक्रमण के 14000 से अधिक मामले
कोरोना की लड़ाई में ‘सावधानी हटी दुर्घटना घटी’ : मोदी
देश में कोरोना के 768 नये मामले, 36 की मौत
नारी गरिमा और उसके सम्मान की रक्षा के लिए तीन तलाक बिल आवश्यक था
माेदी सरकार से जनता की अपेक्षायें बढ़ी: रामदेव
सुल्तानपुर में फ्लाईओवर का पिलर टेढा होने पर जांच के आदेश
मोदी की टिप्पणी ‘हताशा का चरम’: तृणमूल
बहराइच में पानी के लिये भटका बारहसिंघा, कुत्तों ने नोचा
मलेशिया में नजीब रजाक के घर के आसपास घेराबंदी

देश

डेली न्यूज़ एक्टिविस्ट

मीडिया हाउस, 16/3 'घ',
सरोजिनी नायडू मार्ग, लखनऊ - 226001
फ़ोन : 91-522-2239969 / 2238436 / 40, फैक्स : 91-522-2239967/2239968
ईमेल : dailynewsactivist@yahoo.co.in, dailynewslko@gmail.com
वेबसाइट : http://www.dnahindi.com
ई-पेपर : http://www.dailynewsactivist.com

मोदी ने एफएओ की वर्षगांठ पर स्मारक सिक्का जारी किया

मोदी ने एफएओ की वर्षगांठ पर स्मारक सिक्का जारी किया

नयी दिल्ली 16 अक्टूबर (वार्ता)  16 Oct 2020      Email  

नयी दिल्ली 16 अक्टूबर .... प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने खाद्य और कृषि संगठन (एफएओ) की 75 वीं वर्षगांठ पर आज यहां 75 रूपये का स्मारक सिक्का जारी किया।

श्री मोदी ने इस मौके पर कहा, “ आज इस महत्‍वपूर्ण संगठन के 75 वर्ष पूरे हुए हैं। इन वर्षों में भारत सहित पूरी दुनिया में एफएओ ने कृषि उत्पादन बढ़ाने, भुखमरी मिटाने और पोषण बढ़ाने में बहुत बड़ी भूमिका निभाई है। आज जो 75 रुपए का विशेष सिक्का जारी किया गया है, वो भारत की 130 करोड़ से अधिक जनता जनार्दन की तरफ से आपकी सेवाभावना का सम्मान है। एफएओ के विश्व खाद्य कार्यक्रम को इस वर्ष का नोबल शांति पुरस्कार मिलना भी एक बड़ी उपलब्धि है। और भारत को खुशी है कि इसमें भी भारत की साझेदारी और भारत का जुड़ाव बहुत ही ऐतिहासिक रहा है। ”

उन्होंने कहा कि इस कार्यक्रम की शुरूआत डॉक्टर बिनय रंजन सेन के एफएओ के महानिदेशक रहते हुए की गयी थी। उन्होंने उस समय जो बीज बाेया था वे आज भी पूरी दुनिया के काम आ रहा है और उसकी या9ा नोबेल पुरस्कार तक पहुंची है। उन्होंने कहा कि एफएओ ने बीते दशकों में कुपोषण के खिलाफ भारत की लड़ाई को बहुत नजदीक से देखा है। देश में अलग-अलग स्तर पर, कुछ विभागों द्वारा प्रयास हुए थे, लेकिन उनका दायरा या तो सीमित था या टुकड़ों में बिखरा पड़ा था। सरकार ने पिछले कुछ वर्षों में बहु-आयामी रणनीति पर काम किया। राष्ट्रीय पोषण मिशन शुरू करने के साथ साथ कुपोषण बढने के सभी कारकों को ध्यान में रखकर काम किया गया। बहुत बड़े स्तर पर परिवार और समाज के व्यवहार में परिवर्तन के लिए भी काम किया गया।

उन्होंने कहा कि कुपोषण से निपटने के लिए एक और महत्वपूर्ण दिशा में काम हो रहा है। अब देश में ऐसी फसलों को बढ़ावा दिया जा रहा है जिसमें पौष्टिक पदार्थ जैसे प्रोटीन, आयरन, जिंक इत्यादि ज्यादा होते हैं। मोटे अनाज जैसे रागी, ज्वार, बाजरा, कोडो, झांगोरा, बार्री, कोटकी इनकी पैदावार बढ़े, लोग अपने भोजन में इन्हें शामिल करें इसके प्रयास किये जा रहे हैं। उन्होंने कहा , “ मैं आज एफएओ को विशेष धन्यवाद देता हूं कि उसने वर्ष 2023 को मोटे अनाजों के लिए अंतर्राष्ट्रीय वर्ष घोषित करने के भारत के प्रस्ताव को पूरा समर्थन दिया है।”

श्री मोदी ने कहा, “ भारत में पोषण अभियान को ताकत देने वाला एक और अहम कदम उठाया गया है। आज गेहूं और धान सहित अनेक फसलों के 17 नए बीजों की वैरायटी, देश के किसानों को उपलब्ध कराई जा रही हैं।” उन्होंने कहा कि फसलों की सामान्य वैरायटी में किसी न किसी माइक्रो न्यूट्रिएंट की कमी रहती है। इन फसलों की बायो फोर्टिफाइड वैरायटी इन कमियों को दूर कर देती हैं। कृषि वैज्ञानिकों के कार्यों की सराहना करते हुए उन्होंने कहा कि आज

अलग-अलग फसलों की 70 बायोफोर्टिफाइड किस्म किसानों को उपलब्ध हैं। इनमें से कुछ किस्में स्थानीय और पारंपरिक फसलों की मदद से विकसित की गई हैं।


Comments

' data-width="100%">

अन्य खबरें

प्रधानमंत्री आज यूपी के ढाई लाख से अधिक छोटे व्यापारियों को वितरित करेंगे ऋण
प्रधानमंत्री आज यूपी के ढाई लाख से अधिक छोटे व्यापारियों को वितरित करेंगे ऋण

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सोमवार को अपने सरकारी आवास पर 27 अक्टूबर 2020 को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा वर्चुअल