लखनऊ से हिंदी एवं उर्दू में एकसाथ प्रकाशित राष्ट्रीय दैनिक समाचार पत्र
ताजा समाचार
नारी गरिमा और उसके सम्मान की रक्षा के लिए तीन तलाक बिल आवश्यक था
माेदी सरकार से जनता की अपेक्षायें बढ़ी: रामदेव
सुल्तानपुर में फ्लाईओवर का पिलर टेढा होने पर जांच के आदेश
मोदी की टिप्पणी ‘हताशा का चरम’: तृणमूल
बहराइच में पानी के लिये भटका बारहसिंघा, कुत्तों ने नोचा
मलेशिया में नजीब रजाक के घर के आसपास घेराबंदी
बस खाई में गिरी, आठ की मौत
मोदी ने कर्नाटक के लोगों से किया बड़ी संख्या में मतदान करने का आग्रह
अमेरिका ने ईरान पर लगाए नए प्रतिबंध
कांग्रेस कर्नाटक में वापसी को लेकर आशवस्त
इजरायली सैनिकों की गोलीबारी में 350 फिलीस्तीनी घायल
पृथ्वी शॉ की तकनीक सचिन जैसी: मार्क वॉ
अमेरिका की पूर्व पहली महिला बारबरा बुश का निधन
वंशवाद और जातिवाद ने किया यूपी का बंटाढार
मुठभेड़ में लश्कर का शीर्ष कमांडर वसीम शाह ढेर

स्थानीय

डेली न्यूज़ एक्टिविस्ट

मीडिया हाउस, 16/3 'घ',
सरोजिनी नायडू मार्ग, लखनऊ - 226001
फ़ोन : 91-522-2239969 / 2238436 / 40, फैक्स : 91-522-2239967/2239968
ईमेल : dailynewsactivist@yahoo.co.in, dailynewslko@gmail.com
वेबसाइट : http://www.dnahindi.com
ई-पेपर : http://www.dailynewsactivist.com

श्रीनगर हवाई अड्डे से वापस भेजे गए राहुल व विपक्षी नेता

श्रीनगर हवाई अड्डे से वापस भेजे गए राहुल व विपक्षी नेता

श्रीनगर/नई दिल्ली (भाषा)।   25 Aug 2019      Email  

अनुच्छेद 370 के अधिकतर प्रावधानों को खत्म करने के बाद कश्मीर घाटी की स्थिति का जायजा लेने के लिए दिल्ली से गए राहुल गांधी समेत विपक्षी दलों के 11 सदस्यीय प्रतिनिधिमंडल को राज्य प्रशासन ने शनिवार को श्रीनगर हवाई अड्डे से बाहर जाने की अनुमति नहीं दी तथा प्रतिनिधिमंडल को वापस दिल्ली भेज दिया गया। जम्मू-कश्मीर सरकार ने एक दिन पहले बयान जारी कर नेताओं से कहा था कि घाटी का दौरा नहीं करें क्योंकि इससे क्षेत्र में धीरे-धीर लौट रही शांति और सामान्य जिंदगी में बाधा आएगी। नौ राजनीतिक दलों के नेता शनिवार दोपहर श्रीनगर पहुंचे लेकिन कुछ घंटे के अंदर ही उन्हें लौटना पड़ा। प्रतिनिधिमंडल के नेताओं ने सरकार पर बरसते हुए घाटी में सामान्य स्थिति होने के उसके दावे पर सवाल उठाए। कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने श्रीनगर हवाई अड्डे पर संवाददाताओं से कहा कि सरकार ने मुझे आमंत्रित किया है। राज्यपाल ने कहा था कि मैं आमंत्रित हूं। अब जब मैं आया हूं तो वे कह रहे हैं कि आप नहीं आ सकते। सरकार कह रही है कि हर चीज सामान्य है इसलिए अगर हर चीज सामान्य है तो हमें बाहर जाने की अनुमति क्यों नहीं दे रहे। यह आश्चर्यजनक है। उनके साथ माकपा, भाकपा, द्रमुक, राकांपा, जद (एस), राजद, एलजेडी और टीएमसी के नेता भी थे। राहुल ने कहा कि हम किसी भी ऐसे क्षेत्र में जाना चाहते हैं जहां शांति है और 10-15 लोगों से बात करना चाहते हैं। अगर धारा 144 लागू है तो मैं अकेले जाना चाहता हूं, हमें समूह में नहीं जाना है। माकपा पोलित ब्यूरो की तरफ से जारी बयान में विपक्षी नेताओं को श्रीनगर में प्रवेश देने से मना करने पर सरकार की आलोचना की गई। बयान में आरोप लगाया गया कि यह संविधान में प्रदत्त अधिकारों पर दिन-दहाड़े डाका डालना है। जम्मू कश्मीर प्रशासन ने शुक्रवार रात को कहा था कि राजनीतिक नेताओं का दौरा घाटी के कई क्षेत्रों में लगाई गई पाबंदियों का उल्लंघन होगा। विपक्षी दलों को घाटी नहीं जाने देने के प्रशासन के निर्णय के बारे में पूछे जाने पर जम्मू कश्मीर के प्रधान सचिव रोहित कंसल ने कहा कि ऐसे समय में शांति तथा कानून व्यवस्था कायम रखना एक प्राथमिकता है जब सीमा पार आतंकवाद का खतरा कायम है।(शेष पेज-2 पर)


Comments

' data-width="100%">

अन्य खबरें

छात्रा के खिलाफ भी मामला दर्ज
छात्रा के खिलाफ भी मामला दर्ज

स्वामी चिन्मयानंद से रंगदारी मांगने का मामला पूर्व केंद्रीय गृह राज्यमंत्री स्वामी चिन्मयानंद की गिरफ्तारी के बीच विशेष

जलभराव प्रभावित क्षेत्रों में राहत एवं पुनर्वास कार्य तेजी से हों-मिश्र
जलभराव प्रभावित क्षेत्रों में राहत एवं पुनर्वास कार्य तेजी से हों-मिश्र

कोटा, 21 सितम्बर  राजस्थान के राज्यपाल कलराज मिश्र ने शनिवार को कोटा संभाग में हवाई निरीक्षण करके बाढ़ से प्रभावित