लखनऊ से हिंदी एवं उर्दू में एकसाथ प्रकाशित राष्ट्रीय दैनिक समाचार पत्र
ताजा समाचार
नारी गरिमा और उसके सम्मान की रक्षा के लिए तीन तलाक बिल आवश्यक था
माेदी सरकार से जनता की अपेक्षायें बढ़ी: रामदेव
सुल्तानपुर में फ्लाईओवर का पिलर टेढा होने पर जांच के आदेश
मोदी की टिप्पणी ‘हताशा का चरम’: तृणमूल
बहराइच में पानी के लिये भटका बारहसिंघा, कुत्तों ने नोचा
मलेशिया में नजीब रजाक के घर के आसपास घेराबंदी
बस खाई में गिरी, आठ की मौत
मोदी ने कर्नाटक के लोगों से किया बड़ी संख्या में मतदान करने का आग्रह
अमेरिका ने ईरान पर लगाए नए प्रतिबंध
कांग्रेस कर्नाटक में वापसी को लेकर आशवस्त
इजरायली सैनिकों की गोलीबारी में 350 फिलीस्तीनी घायल
पृथ्वी शॉ की तकनीक सचिन जैसी: मार्क वॉ
अमेरिका की पूर्व पहली महिला बारबरा बुश का निधन
वंशवाद और जातिवाद ने किया यूपी का बंटाढार
मुठभेड़ में लश्कर का शीर्ष कमांडर वसीम शाह ढेर

राज्य

डेली न्यूज़ एक्टिविस्ट

मीडिया हाउस, 16/3 'घ',
सरोजिनी नायडू मार्ग, लखनऊ - 226001
फ़ोन : 91-522-2239969 / 2238436 / 40, फैक्स : 91-522-2239967/2239968
ईमेल : dailynewsactivist@yahoo.co.in, dailynewslko@gmail.com
वेबसाइट : http://www.dnahindi.com
ई-पेपर : http://www.dailynewsactivist.com

सीएए हिंसा की हो न्यायिक जांच : अखिलेश

सीएए हिंसा की हो न्यायिक जांच : अखिलेश

कानपुर, 09 जनवरी (वार्ता)  09 Jan 2020      Email  

कानपुर, 09 जनवरी  नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) की मुखालफत कर रहे समाजवादी पार्टी (सपा) अध्यक्ष अखिलेश यादव ने गुरूवार को दोहराया कि काले कानून के विरोध प्रदर्शन के दौरान हुयी हिंसा की जांच उच्चतम न्यायालय के न्यायाधीश से कराने पर ही पुलिस की भूमिका सार्वजनिक हो सकती है।

कानपुर में सीएए के विरोध प्रदर्शन के दौरान हुयी हिंसा में मारे गये युवकों के परिजनो से श्री यादव ने उनके बाबुपुरवा क्षेत्र स्थित आवास पर मुलाकात की और उन्हे ढाढस बंधाते हुये यथासंभव मदद का भराेसा दिलाया।

उन्होने कहा कि हिंसा के दौरान पुलिस द्वारा की गयी गोलीबारी की जांच होनी चाहिये। उन्होने कहा “ आप लोग बताइए कि कुछ ही जिलों में हिंसा क्यों हुई और पुलिस ने गोली क्यों चलाई, इसकी भी जांच होनी चाहिये। ”

पूर्व मुख्यमंत्री ने दावा किया कि जिन लोगों की मौत हुई, उन्हें पुलिस की गोली ही लगी थी। “ जिन इलाकों में सीएए के खिलाफ प्रदर्शन में लोगों की मौत हुई है,वहां सुप्रीम कोर्ट के जज से जांच करा ली जाए.इस जांच में पता चल जाएगा कि कौन दोषी है। सीसीटीवी कैमरों में सारी घटना कैद है। उससे खुद ब खुद पता लग जाएगा। ”

उन्होंने कहा कि पुलिस और शासन की नाकामी की वजह से इस तरह की घटनाएं हुईं है। दरअसल, भाजपा सरकार सीएए के जरिये देश काे धर्म और जाति के नाम पर बांटने का काम कर रही है और अंग्रेजों के नक्शेकदम पर ‘बांटों और राज करो’ की नीति अपना रही है।

गौरतलब है कि 20 दिसंबर को जुमे की नमाज के बाद बाबूपुरवा में हुई हिंसा में 23 वर्षीय मोहम्मद सैफ, 22 वर्षीय आफताब आलम और 30 वर्षीय रईस खान की मौत हो गई थी जबकि दस अन्य लोग घायल हो गए थे।


Comments

' data-width="100%">

अन्य खबरें

रेल टिकटाें की कालाबाज़ारी: अंतरराष्ट्रीय गिरोह के 24 अपराधी गिरफ्तार
रेल टिकटाें की कालाबाज़ारी: अंतरराष्ट्रीय गिरोह के 24 अपराधी गिरफ्तार

नयी दिल्ली, 21 जनवरी  अवैध साॅफ्टवेयर के माध्यम से तत्काल श्रेणी के रेलटिकटों की कालाबाज़ारी करने के वालों के खिलाफ