लखनऊ से हिंदी एवं उर्दू में एकसाथ प्रकाशित राष्ट्रीय दैनिक समाचार पत्र
ताजा समाचार
सुल्तानपुर में फ्लाईओवर का पिलर टेढा होने पर जांच के आदेश
मोदी की टिप्पणी ‘हताशा का चरम’: तृणमूल
बहराइच में पानी के लिये भटका बारहसिंघा, कुत्तों ने नोचा
मलेशिया में नजीब रजाक के घर के आसपास घेराबंदी
बस खाई में गिरी, आठ की मौत
मोदी ने कर्नाटक के लोगों से किया बड़ी संख्या में मतदान करने का आग्रह
अमेरिका ने ईरान पर लगाए नए प्रतिबंध
कांग्रेस कर्नाटक में वापसी को लेकर आशवस्त
इजरायली सैनिकों की गोलीबारी में 350 फिलीस्तीनी घायल
पृथ्वी शॉ की तकनीक सचिन जैसी: मार्क वॉ
अमेरिका की पूर्व पहली महिला बारबरा बुश का निधन
वंशवाद और जातिवाद ने किया यूपी का बंटाढार
मुठभेड़ में लश्कर का शीर्ष कमांडर वसीम शाह ढेर
बलात्कार के मामले में तरुण तेजपाल के खिलाफ आरोप तय
शकुंतला विवि में दिव्यांग छात्रों के लिए बढ़ाई गईं सुविधाएं

राज्य

डेली न्यूज़ एक्टिविस्ट

मीडिया हाउस, 16/3 'घ',
सरोजिनी नायडू मार्ग, लखनऊ - 226001
फ़ोन : 91-522-2239969 / 2238436 / 40, फैक्स : 91-522-2239967/2239968
ईमेल : dailynewsactivist@yahoo.co.in, dailynewslko@gmail.com
वेबसाइट : http://www.dnahindi.com
ई-पेपर : http://www.dailynewsactivist.com

केदारनाथ त्रासदी पीड़ितों के पुनर्वास मामले में सरकार को पक्ष रखने के निर्देश

केदारनाथ त्रासदी पीड़ितों के पुनर्वास मामले में सरकार को पक्ष रखने के निर्देश

नैनीताल, 05 अप्रैल, (वार्ता)  05 Apr 2019      Email  

नैनीताल, 05 अप्रैल,  उत्तराखंड उच्च न्यायालय ने 2013 में केदारनाथ त्रासदी से प्रभावित लोगों के पुनर्वास में हुई वित्तीय अनियमितता और जांच समिति की ओर से इस मामले में कोई कार्रवाई नहीं किये जाने के मामले में सरकार से अपना पक्ष रखने के आदेश दिए हैं। 

मुख्य न्यायाधीश रमेश रंगनाथन और न्यायमूर्ति नारायण सिंह धनिक की युगलपीठ ने मुनस्यारी निवासी एवं पूर्व महानिदेशक(स्वास्थ्य) जनार्दन सिंह पांगती की जनहित याचिका पर सुनवाई के बाद ये निर्देश जारी किये हैं। याचिकाकर्ता के अधिवक्ता बीएन मौलेखी ने न्यायालय को बताया कि केदारनाथ त्रासदी से प्रभावित लोगों के पुनर्वास में अनियमितता बरती गयी है। अनियमितताओं को लेकर शिकायतें मिलने के बाद रूद्रप्रयाग जिला प्रशासन ने 2017 में एक जांच समिति का गठन किया लेकिन जांच समिति की ओर से पिछले दो वर्षों में कुछ नहीं किया गया है। 

याचिकाकर्ता की ओर से जिम्मेदार लोगों के खिलाफ जांच कर आवश्यक कार्यवाही करने की मांग की गयी है। 

पिछले साल जून में उच्च न्यायालय ने राज्य सरकार को केदारनाथ त्रासदी के फलस्वरूप मंदिर के आसपास क्षतिग्रस्त बुनियादी ढांचे के पुनर्निर्माण में संबंधित अधिकारियों द्वारा की गयी अनियमितताओं के मामले में जिम्मेदार अधिकारियों के खिलाफ मामला दर्ज किए जाने के निर्देश दिये थे। न्यायालय ने 2016 में याचिकाकर्ता सुशील वशिष्ठ की जनहित याचिका की सुनवाई के बाद ये निर्देश दिये। याचिकाकर्ता ने केदारनाथ पुनर्निर्माण कार्य में कथित रूप से सार्वजनिक धन के दुरूपयोग का आरोप लगाया गया था। याचिकाकर्ता की ओर से उत्तराखंड नवीनीकरण उर्जा विकास एजेंसी (उरेडा) पर सवाल खड़े किये गये थे। उरेडा केदारनाथ में मंदिर के आसपास क्षतिग्रस्त बुनियादी ढांचे का निर्माण कराने वाली प्रमुख एजेंसी है।


Comments

' data-width="100%">

अन्य खबरें