लखनऊ से हिंदी एवं उर्दू में एकसाथ प्रकाशित राष्ट्रीय दैनिक समाचार पत्र
ताजा समाचार
सुल्तानपुर में फ्लाईओवर का पिलर टेढा होने पर जांच के आदेश
मोदी की टिप्पणी ‘हताशा का चरम’: तृणमूल
बहराइच में पानी के लिये भटका बारहसिंघा, कुत्तों ने नोचा
मलेशिया में नजीब रजाक के घर के आसपास घेराबंदी
बस खाई में गिरी, आठ की मौत
मोदी ने कर्नाटक के लोगों से किया बड़ी संख्या में मतदान करने का आग्रह
अमेरिका ने ईरान पर लगाए नए प्रतिबंध
कांग्रेस कर्नाटक में वापसी को लेकर आशवस्त
इजरायली सैनिकों की गोलीबारी में 350 फिलीस्तीनी घायल
पृथ्वी शॉ की तकनीक सचिन जैसी: मार्क वॉ
अमेरिका की पूर्व पहली महिला बारबरा बुश का निधन
वंशवाद और जातिवाद ने किया यूपी का बंटाढार
मुठभेड़ में लश्कर का शीर्ष कमांडर वसीम शाह ढेर
बलात्कार के मामले में तरुण तेजपाल के खिलाफ आरोप तय
शकुंतला विवि में दिव्यांग छात्रों के लिए बढ़ाई गईं सुविधाएं

देश

डेली न्यूज़ एक्टिविस्ट

मीडिया हाउस, 16/3 'घ',
सरोजिनी नायडू मार्ग, लखनऊ - 226001
फ़ोन : 91-522-2239969 / 2238436 / 40, फैक्स : 91-522-2239967/2239968
ईमेल : dailynewsactivist@yahoo.co.in, dailynewslko@gmail.com
वेबसाइट : http://www.dnahindi.com
ई-पेपर : http://www.dailynewsactivist.com

मालीवाल की निर्भया के गुनाहगारों को जल्द फांसी दिलाने की मांग

मालीवाल की निर्भया के गुनाहगारों को जल्द फांसी दिलाने की मांग

नयी दिल्ली, 03 मार्च (वार्ता)  03 Mar 2019      Email  

नयी दिल्ली, 03 मार्च  दिल्ली महिला आयोग की अध्यक्ष स्वाति मालीवाल ने राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद को पत्र लिख कर उनसे निर्भया के कातिलों को जल्द फांसी दिलाने के लिए न्यायिक प्रक्रिया तेज करने की अपील की है।

आयोग की अध्यक्ष ने राष्ट्रपति से अपील की है कि वह केंद्र सरकार को तुरंत एक अध्यादेश लाने के लिए निर्देश दें जिससे दुष्कर्म के मामलों में तीन महीने के अंदर ट्रायल पूरा हो, और अगले तीन महीने में सभी अपील, पुनर्विचार याचिका और क्यूरेटिव पिटीशन निपटाई जाएं। इससे छह महीने के अंदर न्याय मिल सकेगा। 

उन्होंने लिखा कि दुष्कर्म के मामले में दिल्ली की दुनिया भर में बदनामी हो रही है। यहां आठ महीने तक की छोटी बच्चियों के साथ दुष्कर्म किया गया। एनसीआरबी के डाटा का हवाला देते हुए आयोग की अध्यक्ष ने लिखा कि दिल्ली में हर दिन औसतन तीन नाबालिग लड़कियां यौन हिंसा का शिकार होती हैं। उन्होंने कहा कि न्याय में देरी होने और अनिश्चितता की वजह से अपराधियों के मन मे डर नहीं है। उन्होंने कहा कि कम से कम दुष्कर्म के मामलों में ऐसी न्याय व्यवस्था होनी चाहिए जिससे एक समय सीमा के अंदर अपराधी को सजा मिल सके। 

गौरतलब है कि उच्चतम न्यायालय ने 2017 में ही निर्भया मामले के चारों दोषियों को फांसी की सज़ा सुना दी थी और उनकी पुनर्विचार याचिका भी रद्द कर दी थी, मगर अब तक दोषियों को फांसी नहीं हुई है। अब दोषी अदालत में क्यूरेटिव पिटीशन दाखिल करने जा रहे हैं।

महिला आयोग की अध्यक्ष 13 दिनों की महिला सुरक्षा पैदल यात्रा पर हैं। यात्रा के आठवें दिन रविदास कैम्प में झुग्गी में रुकेंगी और वहां की स्थिति देखेंगी। निर्भया के साथ दुष्कर्म और हत्या के मुख्य दोषी इसी कैम्प में रहते थे।


Comments

' data-width="100%">

अन्य खबरें