लखनऊ से हिंदी एवं उर्दू में एकसाथ प्रकाशित राष्ट्रीय दैनिक समाचार पत्र
ताजा समाचार
नारी गरिमा और उसके सम्मान की रक्षा के लिए तीन तलाक बिल आवश्यक था
माेदी सरकार से जनता की अपेक्षायें बढ़ी: रामदेव
सुल्तानपुर में फ्लाईओवर का पिलर टेढा होने पर जांच के आदेश
मोदी की टिप्पणी ‘हताशा का चरम’: तृणमूल
बहराइच में पानी के लिये भटका बारहसिंघा, कुत्तों ने नोचा
मलेशिया में नजीब रजाक के घर के आसपास घेराबंदी
बस खाई में गिरी, आठ की मौत
मोदी ने कर्नाटक के लोगों से किया बड़ी संख्या में मतदान करने का आग्रह
अमेरिका ने ईरान पर लगाए नए प्रतिबंध
कांग्रेस कर्नाटक में वापसी को लेकर आशवस्त
इजरायली सैनिकों की गोलीबारी में 350 फिलीस्तीनी घायल
पृथ्वी शॉ की तकनीक सचिन जैसी: मार्क वॉ
अमेरिका की पूर्व पहली महिला बारबरा बुश का निधन
वंशवाद और जातिवाद ने किया यूपी का बंटाढार
मुठभेड़ में लश्कर का शीर्ष कमांडर वसीम शाह ढेर

राज्य

डेली न्यूज़ एक्टिविस्ट

मीडिया हाउस, 16/3 'घ',
सरोजिनी नायडू मार्ग, लखनऊ - 226001
फ़ोन : 91-522-2239969 / 2238436 / 40, फैक्स : 91-522-2239967/2239968
ईमेल : dailynewsactivist@yahoo.co.in, dailynewslko@gmail.com
वेबसाइट : http://www.dnahindi.com
ई-पेपर : http://www.dailynewsactivist.com

मथुरा में पराली जलाने के आरोप में 16 किसान गिरफ्तार

मथुरा में पराली जलाने के आरोप में 16 किसान गिरफ्तार

मथुरा, 19 नवम्बर (वार्ता)  19 Nov 2019      Email  

मथुरा, 19 नवम्बर  उत्तर प्रदेश के मथुरा में पराली जलाने की घटनाओं को गंभीरता से लेते हुए अब तक 16 किसानों के खिलाफ कार्रवाई करते हुए गिरफ्तार कर जेल भेज दिया जबकि इन घटनाओं में लापरवाही बरतने के आरोप में दो लेखपालों को निलम्बित कर दिया गया है।

जिलाधिकारी सर्वज्ञ राम मिश्र ने मंगलवार को यहां यह जानकारी दी। उन्होंने बताया कि पराली जलाने की घटनाओं को रोकने के लिए 40 अधिकारियों की ड्यूटी लगाई गई है। अब तक 300 किसानों को दोषी पाए जाने पर उनके खिलाफ कार्रवाई की जा रही है। इस मामले में 13 लाख पांच हजार का जुर्माना भी किया गया है तथा जुर्माना वसूलने के लिए तहसीलों से कार्रवाई हो रही है।

उन्होंने बताया कि पराली जलाने का ताजा मामला छाता तहसील के बिशंभरा गांव से मिला है जिस पर कार्रवाई की जा रही है। उन्होंने बताया कि दो से पांच एकड़ क्षेत्र की पराली जलाए जाने पर पांच हजार तथा पांच से दस एकड़ जलाने पर दस हजार का जुर्माना लगाया गया है। जहां लेखपालों से किसानों को समझाकर पराली जलाना रोकने को कहा गया है वहीं प्रधानों, ब्लाक प्रमुखों, विधायकों आदि से इसमे सहयोग लिया जा रहा है तथा वे भी किसानों को पराली न जलाने के बारे में बता रहे हैं।

जिलाधिकारी ने बताया कि पराली जलाना रोकने के लिए प्रशासन ने बहुत पहले से ही कार्रवाई शुरू कर दी थी। अक्टूबर माह से ही किसाना पाठशाला लगाकर किसानों को पराली जलाने से पर्यावरण को होने वाले दूषप्रभाव के बारे में जहां बता दिया गया था, वहीं उनसे पराली का उपयोग वैकल्पिक रूप से करने के बारे में जानकारी भी दी गई थी ,जिसमें चारे के रूप में इसका उपयोग प्रमुख है। इसके कारण पराली जलाने के मामलों कमी आई है। जहां पिछले साल पराली जलाने के 1046 मामले सैटेलाइट से पकड़े गए थे वहीं इस साल इनकी संख्या घटकर 459 ही रह गई है।

उन्होंने बताया कि धान अधिकतर छाता तहसील में पैदा होता है और माट तहसील गोवर्धन, महाबन तथा मथुरा तहसील में बहुत कम धान होता है । इसलिए पराली जलाने के दोषी किसानों की संख्या सबसे अधिक छाता तहसील में ही है।


Comments

' data-width="100%">

अन्य खबरें

पड़ोसी देशों में उत्पीड़न के शिकार लोगों को भारतीय नागरिकता देने से सुनिश्चित होगा बेहतर कल
पड़ोसी देशों में उत्पीड़न के शिकार लोगों को भारतीय नागरिकता देने से सुनिश्चित होगा बेहतर कल

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश को वायदों की राजनीति की बजाय कामकाज की राजनीति की तरफ ले जाने की प्रतिबद्धता दोहराते हु