लखनऊ से हिंदी एवं उर्दू में एकसाथ प्रकाशित राष्ट्रीय दैनिक समाचार पत्र
ताजा समाचार
श्रमिको के अधिकार रौंदने की कोशिश अनुचित:राहुल
प्रवासी मजदूरों की मौत पर मगरमच्छ के आंसू बहा रहा है केंद्र: चिदम्बरम
जापान में कोरोना संक्रमण के 14000 से अधिक मामले
कोरोना की लड़ाई में ‘सावधानी हटी दुर्घटना घटी’ : मोदी
देश में कोरोना के 768 नये मामले, 36 की मौत
नारी गरिमा और उसके सम्मान की रक्षा के लिए तीन तलाक बिल आवश्यक था
माेदी सरकार से जनता की अपेक्षायें बढ़ी: रामदेव
सुल्तानपुर में फ्लाईओवर का पिलर टेढा होने पर जांच के आदेश
मोदी की टिप्पणी ‘हताशा का चरम’: तृणमूल
बहराइच में पानी के लिये भटका बारहसिंघा, कुत्तों ने नोचा
मलेशिया में नजीब रजाक के घर के आसपास घेराबंदी
बस खाई में गिरी, आठ की मौत
मोदी ने कर्नाटक के लोगों से किया बड़ी संख्या में मतदान करने का आग्रह
अमेरिका ने ईरान पर लगाए नए प्रतिबंध
कांग्रेस कर्नाटक में वापसी को लेकर आशवस्त

देश

डेली न्यूज़ एक्टिविस्ट

मीडिया हाउस, 16/3 'घ',
सरोजिनी नायडू मार्ग, लखनऊ - 226001
फ़ोन : 91-522-2239969 / 2238436 / 40, फैक्स : 91-522-2239967/2239968
ईमेल : dailynewsactivist@yahoo.co.in, dailynewslko@gmail.com
वेबसाइट : http://www.dnahindi.com
ई-पेपर : http://www.dailynewsactivist.com

रक्षा निर्यात पांच साल में 35 हजार करोड़ हो जायेगा: जनरल रावत

रक्षा निर्यात पांच साल में 35 हजार करोड़ हो जायेगा: जनरल रावत

नयी दिल्ली 18 अक्टूबर (वार्ता)  18 Oct 2019      Email  

नयी दिल्ली 18 अक्टूबर  सेना प्रमुख जनरल बिपिन रावत ने आज कहा कि देश को रक्षा क्षेत्र में आत्मनिर्भर बनाने तथा रक्षा उत्पादों का पमुख निर्यातक बनाने की कोशिशें रंग ला रही हैं और अगले पांच साल में रक्षा निर्यात के 35 हजार करोड़ तक पहुंचने की प्रबल संभावना है।

जनरल रावत ने शुक्रवार को यहां रक्षा अताचियों के चौथे सम्मेलन को संबोधित करते हुए कहा कि विनिर्माण के क्षेत्र में देश की रक्षा क्षमता निरंतर बढ रही है और इसके अगले पांच साल में 35 हजार करोड़ तक पहुंचने की संभावना है। उन्होंने कहा , “ हम धीरे धीरे निर्यातोन्मुखी रक्षा उद्योग बन रहे हैं और हमारा रक्षा निर्यात जो अभी एक वर्ष में 11 हजार करोड़ रूपये है अगले पांच वर्ष में यह 35 हजार करोड़ रूपये तक पहुंच जायेगा। ”

उन्होंने कहा कि यह निराशाजनक है कि आजादी के 70 वर्ष बाद भी हम विदेशों से सैन्य साजो सामान का आयात करते रहे हैं लेकिन अब स्थिति बदल रही है। रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन (डीआरडीओ) सेनाओं की जरूरत को ध्यान में रखकर उत्पाद बना रहा है और उनकी आपूर्ति कर रहा है।

सेना प्रमुख ने कहा कि दुनिया में निरंतर बदलती परिस्थितियों के मद्देनजर रक्षा उद्योग को सेनाओं की जरूरतों को उसकी के अनुरूप पूरा करना होगा। सेना का उद्देश्य शांति और स्थिरता बनाये रखना होता है लेकिन इसके लिए उसकी क्षमता और ताकत बढाने के लिए उसे अत्याधुनिक साजो सामान से लैस करना जरूरी है।

जनरल रावत ने कहा कि भारत पड़ोस में शांति और स्थितरता के लिए प्रतिबद्ध है और सेना मित्र देशों के साथ मिलकर किसी भी नये खतरे का सामना करने के लिए तैयार है। उन्होंने कहा कि भारतीय सेना दुनिया की केवल आकार में ही बड़ी सेनाओं में शुमार नहीं है बल्कि वह अपने अनुभव, कौशल और पेशेवर रूख के लिए भी जानी जाती है।

सम्मेलन में मौजूद नौसेना प्रमुख एडमिरल कर्मबीर सिंह ने हिन्द महासागर में समुद्री सुरक्षा को मजबूत बनाने के लिए विभिन्न देशों के बीच सहयोग बढाने पर जोर दिया। उन्होंने कहा कि समुद्री लुटेरे एक बड़ी चुनौती है जिससे निपटने के लिए परस्पर सहयोग जरूरी है।


Comments

' data-width="100%">

अन्य खबरें

आर्थिक पैकेज उन्हीं को मिला जिन्होंने अर्थव्यवस्था को डुबाेया: अखिलेश
आर्थिक पैकेज उन्हीं को मिला जिन्होंने अर्थव्यवस्था को डुबाेया: अखिलेश

लखनऊ, 01 जून....समाजवादी पार्टी(सपा) अध्यक्ष अखिलेश यादव ने आरोप लगाया है कि केन्द्र की भारतीय जनता पार्टी(भाजपा) सरकार