लखनऊ से हिंदी एवं उर्दू में एकसाथ प्रकाशित राष्ट्रीय दैनिक समाचार पत्र
ताजा समाचार
कोरोना के 2.56 लाख से अधिक नमूनों की जांच
देश में कुल 1,268 कोरोना टेस्ट लैब
रक्षा मंत्री का लद्दाख दौरा स्थगित
पुतिन 2036 तक बने रहेंगे राष्ट्रपति
श्रमिको के अधिकार रौंदने की कोशिश अनुचित:राहुल
प्रवासी मजदूरों की मौत पर मगरमच्छ के आंसू बहा रहा है केंद्र: चिदम्बरम
जापान में कोरोना संक्रमण के 14000 से अधिक मामले
कोरोना की लड़ाई में ‘सावधानी हटी दुर्घटना घटी’ : मोदी
देश में कोरोना के 768 नये मामले, 36 की मौत
नारी गरिमा और उसके सम्मान की रक्षा के लिए तीन तलाक बिल आवश्यक था
माेदी सरकार से जनता की अपेक्षायें बढ़ी: रामदेव
सुल्तानपुर में फ्लाईओवर का पिलर टेढा होने पर जांच के आदेश
मोदी की टिप्पणी ‘हताशा का चरम’: तृणमूल
बहराइच में पानी के लिये भटका बारहसिंघा, कुत्तों ने नोचा
मलेशिया में नजीब रजाक के घर के आसपास घेराबंदी

स्थानीय

डेली न्यूज़ एक्टिविस्ट

मीडिया हाउस, 16/3 'घ',
सरोजिनी नायडू मार्ग, लखनऊ - 226001
फ़ोन : 91-522-2239969 / 2238436 / 40, फैक्स : 91-522-2239967/2239968
ईमेल : dailynewsactivist@yahoo.co.in, dailynewslko@gmail.com
वेबसाइट : http://www.dnahindi.com
ई-पेपर : http://www.dailynewsactivist.com

नारी गरिमा और उसके सम्मान की रक्षा के लिए तीन तलाक बिल आवश्यक था

नारी गरिमा और उसके सम्मान की रक्षा के लिए तीन तलाक बिल आवश्यक था

लखनऊ।   31 Jul 2019      Email  

तीन तलाक बिल लोकसभा के बाद राज्यसभा में भी पास होने पर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि तीन तलाक विधेयक का संसद में पारित होना भारत के संसदीय इतिहास का सबसे गौरवशाली दिन है। इस बिल का पारित होना केवल किसी मत, मजहब या जाति के लिए नहीं बल्कि नारी गरिमा और उनके सम्मान की रक्षा के लिए आवश्यक था। प्रधानमंत्री मोदी द्वारा उठाए गए इस कदम के लिए हम उनका अभिनंदन करते हैं। मुख्यमंत्री ने कहा कि भारत के संविधान में किसी भी नागिरक के साथ किसी भी प्रकार के भेदभाव को स्थान नहीं दिया गया है। महिला और पुरुष के बीच के भेदभाव को खत्म करने के लिए यह बिल जरूरी था। दुनिया के तमाम देशों जिनमें बहुत सारे इस्लामिक देश भी शामिल हैं, अपने यहां तीन तलाक की कुप्रथा को प्रतिबंधित कर रखा है। उस सबके बावजूद आजादी के बाद से दुनिया के सबसे बड़े लोकतांत्रिक देश यानि हमारे देश के अंदर यह व्यवस्था चली आ रही थी। मुख्यमंत्री ने कहा कि यह दुर्भाग्य कि बात है कि जो लोग महिला सशक्तिकरण की बात करते थे, उन लोगों ने लोकसभा और राज्यसभा में नारी गरिमा के प्रतीक इस बिल का विरोध किया। देश में कांग्रेस और प्रदेश में सपा-बसपा जैसे दलों के नेताओं के चेहरे बेनकाब हुए हैं। अब उनके चेहरे सबके सामने आ चुके हैं। मैं विश्वास करता हूं नारी सशक्तिकरण की दिशा में इस बहुत बड़े कदम को हम आगे बढ़ाने सफल होंगे।


Comments

' data-width="100%">

अन्य खबरें

अलास्का में भूकंप के झटके
अलास्का में भूकंप के झटके

न्यूयॉर्क , 02 अक्टूबर (शिन्हुआ)  अमेरिका के अलास्का के दक्षिण-पश्चिम में बुधवार को भूकंप के मध्यम दर्जे के झटके म