लखनऊ से हिंदी एवं उर्दू में एकसाथ प्रकाशित राष्ट्रीय दैनिक समाचार पत्र
ताजा समाचार

समाचार विवरण

डेली न्यूज़ एक्टिविस्ट

मीडिया हाउस, 16/3 'घ', सरोजिनी नायडू मार्ग, लखनऊ - 226001
फ़ोन : 91-522-2239969 / 2238436 / 40,
फैक्स : 91-522-2239967/2239968
ईमेल : dailynewslko@gmail.com
ई-पेपर : http://www.dailynewsactivist.com

प्रदूषण को लेकर NGT ने दिल्ली सरकार से पूछे 5 सवाल, नहीं मिला कोई जवाब
प्रदूषण को लेकर NGT ने दिल्ली सरकार से पूछे 5 सवाल, नहीं मिला कोई जवाब
नई दिल्ली    07 Nov 2016       Email   

दिल्ली के ऊपर धुंध छाए रहने को लेकर नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल (एनजीटी) ने केंद्र और दिल्ली सरकार को जमकर फटकार लगाई. एनजीटी ने कहा कि वे एक दूसरे पर दोषारोपण करना बंद करें. एनजीटी के अध्यक्ष स्वतंत्र कुमार ने कहा कि दिल्ली के लोगों के प्रति यह अन्याय है. हर चीज में प्रशासन अपने हाथ खड़े कर देता है. हमें कुछ करना है आप यह नहीं कह सकते कि वक्त इसे करेगा. एनजीटी ने सोमवार को बुलाई बैठक में दिल्ली सरकार से पांच सवाल किए जिसका उनके पास कोई जवाब नहीं था.
एनजीटी का पहला सवाल था कि अगर दिल्ली सरकार ने इमरजेंसी घोषित की है तो बताइए कि रविवार को बिल्डर्स के, कूड़ा जलाने वालों के कितने चालान किए गए. सरकार के पास कोई जवाब नहीं था. एनजीटी ने कहा कि 'एक्शन में आइये, कागजी कार्रवाई से कुछ नहीं होगा और अगर ऐसा नहीं होगा तो हम अफसरों की तनख्वाह काटेंगे और जरूरत पड़ी तो जेल भी भेजेंगे.'

एनजीटी ने पूछा कि आपने प्रदूषण का अंदर और बाहर का स्तर बिना जाने स्कूलों की छुट्टी कर दी. घर और स्कूल दोंनो के अंदर प्रदूषण का स्तर बराबर है तो फिर छुट्टी की जरुरत ही नहीं है. सरकार ने इस पर कोई रिसर्च करने की जरूरत समझी ही नहीं.

एनजीटी ने दिल्ली सरकार को फटकार लगाते हुए आगे कहा कि क्या हेलीकॉप्टर सिर्फ वीवीआईपी लोगों के लिए ही है. प्रदूषण को कम करने के लिए हेलीकॉप्टर से पानी का छिड़काव अब तक क्यों नहीं करवाया गया. जो एनजीटी ने सोचा वो सरकार और एजेंसी सोच ही नहीं पाई तो फिर करती कैसे
एनजीटी का सवाल था कि पंजाब में 70 फ़ीसदी किसान फसल जला रहे हैं. उनको वो मशीन कैसे और कब तक दी जा सकती है. सरकार इसमें एक दुसरे का क्या सहयोग कर सकती है हमें बताए. जिससे फसलों को खेत में जलाया न जाए बल्कि सरकार मशीन के इस्तेमाल से फ़सल के उस हिस्से को खेत से ही निकाल सके. सरकारों ने इस पर भी कुछ करना तो दूर सोचना भी जरूरी नहीं समझा. इवन ओड क्यों फेल हुआ सरकार ने लागू करने से पहले कोई रिसर्च क्यों नहीं की. सरकारें प्रदूषण पर लगाम लगाने के लिए क्या चीज़े जरुरी है ये प्रदूषण बढ़ने के बाद ही हर साल क्यों सोचती है. पूरे साल क्यों नहीं सोचती.






Comments

अन्य खबरें

छोटे उद्योगों के लिए नई परिभाषा लिखी मोदी ने: पीयूष
छोटे उद्योगों के लिए नई परिभाषा लिखी मोदी ने: पीयूष

नयी दिल्ली।  भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के वरिष्ठ नेता और केंद्रीय वाणिज्य एवं उद्योग मंत्री पीयूष गोयल ने गुरुवार को कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में केंद्र सरकार ने छोटे

छठे चरण का प्रचार खत्म, यूपी की 14 सीटों पर 25 को मतदान
छठे चरण का प्रचार खत्म, यूपी की 14 सीटों पर 25 को मतदान

लखनऊ।  लोकसभा चुनाव के छठे चरण में उत्तर प्रदेश में 15 जिलों की 14 सीटों पर चुनाव प्रचार गुरुवार शाम समाप्त हो गया। चुनाव के इस चरण में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) की मौजूदा सांसद मेनका

पुलिस नियंत्रण कक्ष को बम से उड़ाने की धमकी
पुलिस नियंत्रण कक्ष को बम से उड़ाने की धमकी

नयी दिल्ली।  राष्ट्रीय राजधानी के नार्थ ब्लॉक स्थित दिल्ली पुलिस नियंत्रण कक्ष को बम से उड़ाने की धमकी भरा एक ई-मेल मिला है। अग्निशमन विभाग को जैसे ही इस धमकी की सूचना मिली, दो

डॉ. विकास महात्मे एम्स नागपुर के अध्यक्ष नियुक्त
डॉ. विकास महात्मे एम्स नागपुर के अध्यक्ष नियुक्त

नयी दिल्ली।  केंद्र सरकार ने पूर्व राज्यसभा सांसद, प्रसिद्ध नेत्र विशेषज्ञ एवं पद्मश्री पुरस्कार से सम्मानित डॉ. विकास महात्मे को अखिल भारतीय और आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स),नागपुर का