ताजा समाचार

समाचार विवरण

डेली न्यूज़ एक्टिविस्ट

मीडिया हाउस, 16/3 'घ', सरोजिनी नायडू मार्ग, लखनऊ - 226001
फ़ोन : 91-522-2239969 / 2238436 / 40,
फैक्स : 91-522-2239967/2239968
ईमेल : dailynewslko@gmail.com
ई-पेपर : http://www.dailynewsactivist.com

विश्वकर्मा श्रम सम्मान योजना से श्रमिकों का जीवन स्तर सुधरा: सहगल
विश्वकर्मा श्रम सम्मान योजना से श्रमिकों का जीवन स्तर सुधरा: सहगल
लखनऊ, 5 अगस्त (वार्ता)    05 Aug 2022       Email   

लखनऊ, 5 अगस्त ... उत्तर प्रदेश में अपर मुख्य सचिव एमएसएमई नवनीत सहगल ने कहा है कि विश्वकर्मा श्रम सम्मान योजना कम समय में न सिर्फ परंपरागत पेशे से जुड़े लोगों के जीवन स्तर में सुधार लाने में सफल हुयी है वहीं इनकी सेवाओं को भी आधुनिक बनाया जा रहा है।

श्री सहगल ने शुक्रवार को कहा कि सबका साथ, सबका विकास के तहत इस बड़े वर्ग की बेहतरी के लिए ऐसी इन्नोवेटिव योजना जरूरी एवं सामयिक थी। इस योजना के जरिए सरकार परंपरागत पेशे से जुड़े लोगों का जीवन स्तर सुधार के साथ इनकी सेवाओं को भी आधुनिक बनाया जा रहा है।

आधिकारिक सूत्रों का दावा है कि पांच साल पहले शुरू की गयी यह योजना स्थानीय दस्तकारों और कारीगरों के लिए संजीवनी बन गई है। साथ ही लोकल फ़ॉर वोकल और आत्मनिर्भर भारत की मजबूत बुनियाद बन रही है। योजना के तहत अब तक करीब दो लाख श्रमिकों को प्रशिक्षण देकर उनका हुनर को निखारा गया। यह निखरा हुनर उनके काम में भी दिखे। उनके द्वारा तैयार उत्पाद कीमत एवं गुणवत्ता में बाजार में प्रतिस्पर्धी हों इसके लिए प्रशिक्षण पाने वाले एक लाख 44 हजार 212 कारीगरों को उनकी जरूरत के अनुसार निःशुल्क उन्नत टूल किट भी दिये गए।

उन्होने बताया कि अगले पांच साल में इस योजना के तहत 5 लाख लोगों को प्रशिक्षित कर उनका हुनर निखारने एवं उनको टूलकिट देने का लक्ष्य रखा गया है। जरूरत के अनुसार इनको बैंक से भी जोड़ा जाएगा। बजट में भी इसके लिए 112.50 करोड़ रुपये का प्रावधान किया गया है।

उल्लेखनीय है कि परंपरागत पेशे से जुड़े लोगों के हित के मद्देनजर प्रदेश सरकार ने 2017 में योजना की शुरुआत की थी। इस योजना के केंद्र में बढ़ई, दर्जी, टोकरी बुनने वाले, नाई, सुनार, लोहार, कुम्हार, हलवाई, मोची, राजमिस्त्री एवं हस्तशिल्पी आदि थे। खुद में यह बड़ा वर्ग है। इस वर्ग के लोग कई पुश्तों से स्थानीय स्तर पर अपने परंपरागत पेशे से जुड़े थे। समय के अनुसार यह खुद को बदलें। इस बदलाव के लिए उनको प्रशिक्षण मिले और काम बढ़ाने के लिए जरूरी पूंजी मिले इस ओर किसी सरकार का ध्यान नहीं गया। आजादी के बाद पहली बार योगी सरकार इनके श्रम के सम्मान, हुनर को निखारने एवं पूंजी संबंधित जरूरतों को पूरा करने के लिए विश्वकर्मा श्रम सम्मान के नाम से एक नई योजना लेकर आई। आजीविका के साधनों का सुदृढीकरण करते हुए उनके जीवन स्तर को उन्नत किया जाता है ।

योजनान्तर्गत चिन्हित परम्परागत कारीगरों / हस्तशिल्पियों का हुनर निखारने के लिए उनको हफ्ते भर का प्रशिक्षण प्रदान किया जाता है। प्रशिक्षण के उपरान्त सभी प्रशिक्षित कारीगरों / हस्तशिल्पियों को उनकी जरूरत के अनुसार नि:शुल्क उन्नत टूलकिट्स उपलब्ध कराए जाते हैं।

प्रशिक्षित कारीगरों को अपना कारोबार बढ़ाने या इसे और बेहतर बनाने में पूंजी की कमीं बाधक न बने इसके लिए इनको प्रधानमंत्री मुद्रा योजना से लिंक करते हुए बैंकों के माध्यम से ऋण भी उपलब्ध कराया जा रहा है।


Comments

अन्य खबरें

गुरूजी के अवतार में दिखेगें एम एस धोनी
गुरूजी के अवतार में दिखेगें एम एस धोनी

नयी दिल्ली 09 अगस्त ... अगरबत्ती और धूपबत्ती क्षेत्र की प्रमुख कंपनी मैसूर दीप परफ्यूमरी हाउस (एमडीपीएच) के प्रमुख ब्रांड ज़ेड ब्लैक अगरबत्ती ने अपना नया अभियान लॉन्च किया है जिसमें उसके ब्रांड

भारतीय भारत के साथ व्यापार समझौते करने को इच्छुक हैं विकसित देश: गोयल
भारतीय भारत के साथ व्यापार समझौते करने को इच्छुक हैं विकसित देश: गोयल

नयी दिल्ली, 09 अगस्त .... वाणिज्य एवं उद्योग मंत्री पीयूष गोयल ने मंगलवार को कहा कि दुनिया भारत को आर्थिक विकास के इंजन के रूप में देखती है और विकसित देश हमारे साथ व्यापार समझौते करने को इच्छुक

भारत में 27 माह में एलपीजी 41 प्रतिशत, विश्व बाजार में 203 प्रतिशत महंगी
भारत में 27 माह में एलपीजी 41 प्रतिशत, विश्व बाजार में 203 प्रतिशत महंगी

नयी दिल्ली 09 अगस्त .... भारत में रसोई गैस की खुदरा कीमतों में अप्रैल 2020 की तुलना में 41 प्रतिशत वृद्धि दर्ज की गयी है जबकि इस दौरान वैश्विक बाजार में एलपीजी के मानक अनुबंध का भाव तीन गुना हो

आज का इतिहास
आज का इतिहास

नयी दिल्ली 09 अगस्त .... भारतीय एवं विश्व इतिहास में 10 अगस्त की प्रमुख घटनाएं इस प्रकार हैं :- 1809 : इक्वाडोर को स्पेन से स्वतंत्रता (आजादी) मिली। 1822 : सीरिया में आए भूकंप से लगभग 20,000 लोगों